जागरण संवाददाता, होशियारपुर

त्योहारों का सीजन शुरू हो रहा है। प्रशासन ने कोरोना के कहर को देखते हुए कुछ नियम जारी किए हैं। सरकार ने यह भी निर्देश जारी किए हैं कि जब तक वैक्सिन नहीं बन जाती तब तक मास्क को ही इसकी वैक्सिन समझें और मास्क का प्रयोग करें। ऐसा करके ही हम इस कोरोना वायरस के बच सकते हैं। लेकिन चिता का विषय यह है कि आमजन कोरोना की जारी की गई गाइडलाइन का पालन नहीं कर रहा। लोग यह सोच रहे हैं कि सबकुछ कोरोना मुक्त हो चुका है। बेफिक्र आमजन इस गाइडलाइन को मानने के लिए तैयार नहीं है। प्रशासन द्वारा जारी किए गए नियमों की जमकर धज्जियां उड़ाई जा रही हैं।

इसकी ताजा मिसाल रविवार को लगने वाली संडे मार्केट में देखने को मिली। कुछ फीसदी लोगों ने ही मास्क पहने थे। किसी ने भी शारीरिक दूरी का ध्यान नहीं रखा। यहां तक दुकानदारों ने भी मास्क नहीं पहने।

-------------------- --------------

धरी की धरी साबित हो रही प्रशासन की प्लानिग

कोरोना की रोकथाम के लिए लड़ाई लड़ रहा प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग शुरुआत में मास्क न पहने वालों पर कार्रवाई कर रहा था। जुर्माने हो रहे थे। लोगों में डर भी था। अब सारी प्लानिग धरी की धरी साबित हो रही है। केवल उन्हीं को जुर्माना हो रहा है जो वाहन चलाते समय मास्क नहीं पहन रहे बाकी कोई मास्क पहने न पहने इस तरफ किसी का कोई ध्यान नहीं है। स्वास्थ्य विभाग ने जो टीम मास्क न पहनने वालों पर कार्रवाई करने के लिए गठित की थी वह भी सक्रिय नहीं है। निगम के अधिकारी व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी मूक दर्शक बनकर रह गए हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!