होशियारपुर, जेएनएन। पिछले सप्ताह टांडा के नजदीकी गांव में छह साल की मासूम बच्ची से दुष्कर्म के बाद हत्या के आरोप में गिरफ्तार दादा सुरजीत सिंह और उसके पोते सुरजीत सिंह को सोमवार को पुन: अदालत में पेश किया गया। पुलिस ने आरोपितों से अभी और पूछताछ करने की दलील देते हुए पांच दिन का रिमांड और मांगा। माननीय अदालत ने एक दिन का पुलिस रिमांड और दे दिया।

बता दें कि इससे पहले भी पुलिस आरोपितों का चार दिन और तीन का रिमांड हासिल कर चुकी है। चूंकि मूलरूप से बिहार की रहने वाली पीड़ित के साथ यहां पर हुई दिल दहला देने वाली घटना ने पंजाब को शर्मसार कर दिया है। ऐसे में पुलिस जल्द से जल्द चालान पेश करके आरोपितों को कड़ी सजा दिलवाकर मिसाल देना चाहती है। टांडा के एसएचओ विक्रमजीत सिंह ने कहा कि आरोपितों से लगातार पूछताछ की जा रही है।

तमाम जरूरी सबूत जुटा लिए गए हैं। चालान मुकम्मल करने की प्रक्रिया तेजी से की जा रही है। बहुत जल्द अदालत में चालान पेश कर दिया जाएगा। सूत्रों के मुताबिक पुलिस ने घटना के दिन बच्ची को साथ ले जाते हुए सीसीटीवी फुटेज, कपड़े और मौके से तमाम सबूत इकट्ठे कर लिए हैं। इसी सप्ताह पुलिस चालान पेश कर देगी ताकि अदालत में केस की सुनवाई शुरू हो सके।

पंजाब बाल अधिकारी सुरक्षा आयोग की हिदायत, एक माह में पीड़ित परिवार को मिले प्लाट

 टांडा (होशियारपुर)। पंजाब बाल अधिकारी सुरक्षा आयोग के चेयरमैन व पूर्व आइपीएस अधिकारी र¨जदर ¨सह ने आयोग के सदस्यों यशवंत जैन सहित टांडा पहुंच कर पीड़ित परिवार से दुख सांझा किया। परिवार से दुख व्यक्त करने के बाद आयोग के चेयरमैन रजिंदर सिंह आयोग के वाइस चेयरमैन सेबी थोमस व राष्ट्रीय आयोग के सदस्य ने डिप्टी कमिश्नर होशियारपुर अपनीत रियात व एसएसपी नवजोत सिंह माहल से बैठक की और अब तक हुई कार्रवाई का जायजा लिया।

चेयरमैन रजिंदर सिंह ने जिला प्रशासन को निर्देश दिए कि पीड़ित परिवार के साथ सरकार की ओर से किए वायदे समय पर पूरे करने यकीनी बनाए जाएं। उन्होंने जिला प्रशासन को हिदायत की कि सरकार की ओर से परिवार को गांव में प्लाट देने का वायदा एक माह के अंदर पूरा किया जाए। डिप्टी कमिश्नर ने आयोग को परिचित करवाया कि जिला प्रशासन की ओर से इस संबंधी कार्रवाई शुरू की जा रही है। एक माह में परिवार को प्लाट मुहैया करवा दिया जाएगा।

डिप्टी कमिश्नर ने आयोग को इस बात से परिचित करवाया कि उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री पंजाब सुंदर शाम अरोड़ा की ओर से पीड़ित परिवार की 5 बेटियों के नाम पर अपने जेब से 50-50 हजार रुपये की एफडी भी दो चार दिनों में परिवार को सुपुर्द की जा रही है। चेयरमैन रजिंदर सिंह ने बताया कि परिवार के साथ मुलाकात के दौरान आयोग के सदस्य यशवंत जैन ने जिला प्रशासन व पुलिस की ओर से समय पर की तुरंत कार्रवाई पर तसल्ली प्रकट की। यशवंत जैन ने पीड़ित परिवार को भरोसा दिलाया कि राष्ट्रीय व राज बाल अधिकार सुरक्षा आयोग परिवार को हरसंभव मदद व न्याय दिलवाने के लिए पूरी तरह से वचनबद्ध है। अन्यों के अलावा डिप्टी डायरेक्टर रा¨जदर ¨सह आदि भी मौजूद थे

पुलिस की ओर से जल्द ही चालान अदालत में पेश किया जा रहा है ताकि अदालती कार्रवाई पूरी तेजी के साथ अमल में लाई जा सके।

-नवजोत सिंह माहल, एसएसपी

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!