संवाद सहयोगी, दसूहा

गांव बेरछा की सोमवार से लापता एक महिला का बुधवार को समीपवर्ती गन्ने के खेत से शव बरामद हुआ है। महिला की गला दबाकर हत्या हुई है। इस हत्याकांड के बारे में मृतका के पति, जेठ और सरपंच के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। यह मामला मृतका की बेटी ने दर्ज कराया है। मृतका की पहचान हर¨जदर कौर (37) के रूप में हुई है।

मृतका की बेटी हरप्रीत कौर ने बताया कि सोमवार को उसकी मां हर¨जदर कौर रोज की तरह बोदल में दुकान पर काम करने गई थी। मगर, शाम को छह बजे तक न लौटने पर दुकान पर फोन करने पर मालूम पड़ा कि वह चार बजे ही चली गई थी। उसकी मां का मोबाइल फोन बंद आ रहा था। उसे काफी ढूंढा गया, लेकिन कोई सुराग नहीं मिला। मां की गुमशुदगी के बारे में पिता गोपी ¨सह से बात करने पर उसने कोई रिस्पांस नहीं दिया। जबकि वह बार-बार गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखवाने के लिए कहती रही।

उधर, बुधवार को गांव के समीप गन्ने के खेतों से हर¨जदर कौर का शव मिला। हालात के मुताबिक हत्या के बाद हर¨जदर कौर को घसीटकर हुए खेतों में ले जाया गया था। हर¨जदर कौर की स्कूटरी, पर्स और मोबाइल फोन गायब हैं। पोस्टमार्टम में यह बात सामने आई है कि हर¨जदर कौर गला दबाकर हत्या की गई है।

वहीं, मृतका की बेटी हरप्रीत कौर के मुताबिक उसकी मां हर¨जदर कौर की हत्या पिता गोपी ¨सह, ताया देस राज और सरपंच सतपाल ¨सह ने की है। उसके बयान पर दसूहा पुलिस ने उक्त तीनों आरोपितों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करके अगली कार्रवाई शुरू कर दी है। हरप्रीत के मुताबिक उसका पिता गोपी घर का खर्च भी नहीं देता था और अक्सर झगड़ा करता रहता था।

---------------------

सरपंच को नामजद करने पर समर्थकों ने किया थाने का घेराव

हत्या के मामले में नामजद किया गया सरपंच सतपाल ¨सह अकाली दल का है। वह शिअद (ब) की तरफ से ब्लॉक समिति का चुनाव लड़ रहा है। सतपाल को नामजद करने पर परिजनों और अकालियों ने इसे कांग्रेस की साजिश बताते हुए थाने का घेराव करके कांग्रेस व पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की। प्रदर्शनकारियों में शिअद के बिक्का चीमा, संघर्ष कमेटी से द¨वदर बोदल व अन्य कार्यकर्ताओं ने कहा है कि कोई भी निर्दोष व्यक्ति राजनीति के चलते शिकार नहीं बनाया जाना चाहिए। इस बारे में थाना मुखी जगदीश राज अतरी ने पूरी पारदर्शिता से केस की जांच करने का आश्वासन दिया है।

-------------------

चुनाव की वजह से मुझे फंसाया : सतपाल

सरपंच सतपाल ने कहा है कि वह चुनाव लड़ रहा है। इसलिए कांग्रेसियों ने उसे साजिश के तहत फंसाया है। उसका उक्त केस से कोई लेनादेना नहीं है। पुलिस इस हत्याकांड की निष्पक्ष जांच करे, तो दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा।

-----------------

हर¨जदर कौर की कॉल डिटेल से हत्या का राज खोलेगी पुलिस

थाना प्रभारी जगदीश ने कहा है कि इस हत्याकांड की तफ्तीश शुरू कर दी गई है। फिलहाल, बयानों के आधार पर हत्या का मामला दर्ज किया गया है। सूत्रों के मुताबिक पुलिस को हर¨जदर की हत्या में कोई और बात नजर आ रही है। हत्यारे तक पहुंचने के लिए पुलिस हर¨जदर के मोबाइल फोन की कॉल डिटेल खंगालेगी। उससे यह पता लगाएगी कि हर¨जदर के संपर्क में कौन था।

-------------------

पुलिस की शक की सूई अवैध संबंधों पर भी

पुलिस को कुछ और ही संदेह है, लेकिन पुलिस पक्का सुबूत जुटाकर ही हत्याकांड का पदार्फाश करेगी। इस हत्याकांड में अवैध संबंधों पर पुलिस के शक की सूई घूम रही है। हत्यारों तक पहुंचने के लिए पुलिस मोबाइल फोन की कॉल डिटेल को अपना आधार बनाएगी। सूत्रों की मानें, तो पुलिस को इसके कुछ क्लू भी मिले हैं।

Posted By: Jagran