संवाद सहयोगी, गढ़शंकर : गढ़शंकर के पिक रोज होटल में पत्रकारों से बात करते हुए सरबत दा भला संस्था के संस्थापक डा. एसपी ओबराय ने स्पष्ट रूप से निकट भविष्य में किसी भी राजनीतिक पार्टी में शामिल होने से इंकार किया। उन्होंने कहा कि पंजाब में शिक्षा व सेहत सेवाएं दम तोड़ रही है। उन्होंने बताया कि पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी से मिलकर उन्होंने 15 आइटीआइ संस्था स्थापित करने की गुजारिश की थी, ताकि इन संस्थाओं में विद्यार्थियों को देश-विदेश में रोजगार करने के लिए प्रशिक्षित किया जा सके। उन्होंने कहा कि जब विद्यार्थियों के पास कौशल होगा तभी उन्हें रोजगार हासिल हो पाएगा। उनकी संस्था का उद्देश्य है कि पंजाब में हर जगह सस्ती लैब व मेडिकल स्टोर की स्थापना की जाए, ताकि लोगों को सस्ते दामों पर विभिन्न टेस्ट व दवाएं उपलब्ध कराई जा सके। टेस्ट व दवाएं उपलब्ध कराई जा सके। उन्होंने स्वीकार किया कि कई राजनीतिक पार्टियों ने उन्हें पार्टी में आने के लिए निमंत्रण दिया था लेकिन उन्होंने सब ठुकरा दिया। इससे पहले उन्होंने खुरालगढ़ के ऐतिहासिक तपस्थली पर माथा टेका और वहां पर लोगों की सुविधा के लिए लैब की स्थापना व मरीजों को दूसरे अस्पताल लेकर जाने के लिए एंबूलेंस देने का वादा किया। उन्होंने तपस्थली पर बने गुरुद्वारा के प्रधान केवल सिंह को श्री गुरु रविदास जी के उक्त स्थान पर की तपस्या के संबंध में किताब छपवाने का आश्वासन दिया ताकि लोगों तक इस धार्मिक स्थल के इतिहास की जानकारी पहुंचाई जा सके। गढ़शंकर प्रेस क्लब व पत्रकार मंच के सदस्यों द्वारा उन्हें सम्मानित भी किया गया। इस दौरान उनके साथ अमरजोत सिंह प्रधान दोआबा जोन, दुर्गेश जंडि, हरविदर सिंह व शरणजीत सिंह बैंस भी उपस्थित थे।

Edited By: Jagran