जागरण टीम, होशियारपुर : कोरोना से मिली कुछ राहत के बाद अब डेंगूं कहर बरपाने लगा है। जिला में अब तक तीन सौ से अधिक डेंगू के मरीज सामने आ चुके हैं और इसमें दो सौ केवल शहरी इलाकों से संबंधित है। इन बढ़ रहे आंकड़ों के मद्देनजर पूरा प्रशासन सकते में है और इसको लेकर जहां सिविल सर्जन डा. रणजीत घोतड़ा ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से बात की वहीं डीसी होशियारपुर अपनीत रियात ने भी जिला के अधिकारियों से विशेष बैठक की। इस बैठक में डीसी ने साफ कर दिया है कि डेंगू के मामले में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

जिस घर में मिला लारवा उनका होगा चालान

इस दौरान डीसी अपनीत रियात ने साफ किया कि सर्वे टीमें डेंगू के लारवा संबंधी सर्वे कर रही हैं। डेंगू सर्वे में जिन घरों में डेंगू का लारवा पाया जाता है वहां चालान किए जाएंगे। डेंगू रोकथाम संबंधी अलग-अलग विभागों के अधिकारियों की बैठक को संबोधित दी। उन्होंने कहा कि इसके अलावा सरकारी कार्यालयों की भी चेकिग की जाएगी और लारवा पाए जाने पर उन कार्यालयों के भी चालान किए जाएंगे। इस दौरान उनके साथ एडीसी (शहरी विकास) व कमिश्नर नगर निगम आशिका जैन भी मौजूद थे। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग व नगर निगम के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिले में बढ़ रहे डेंगू की रोकथाम के लिए योजनाबद्ध तरीके से आपसी तालमेल के साथ-साथ ज्यादा गंभीरता व सर्तकता के साथ काम किया जाए। इसके लिए जहां जागरूकता गतिविधियां चलाई जाएं वहीं नगर निगम, नगर परिषद व नगर पंचायतों की टीमें फागिग भी करवाएं।

तेजी से फैल रहा डेंगू का प्रकोप

पिछले कुछ दिनों से जिले में डेंगू के मामलों में काफी वृद्धि हुई है और जिला में अब तक 307 डेंगू के मामले सामने आ चुके हैं, जिनमें से 200 होशियारपुर शहर के ही हैं। इसलिए सभी अधिकारियों को गंभीरता से कार्य करने की जरूरत है। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को कहा कि वे डेंगू सर्विलेंस टीमों को और गंभीरता व जिम्मेदारी के साथ हाउस टू हाउस सर्वे करने के निर्देश दें व हाट स्पाट इलाकों में लगातार फागिग करवाते हुए लोगों को भी डेंगू से बचाव संबंधी जागरुक करें। उन्होंने सिविल अस्पताल में मौजूद प्लेटलेट्स मशीन के बारे में जानकारी हासिल करते हुए वहां के प्रबंधों की समीक्षा की व निर्देश दिए कि अस्पतालों में आने वाले मरीजों के इलाज में किसी तरह की कोई कमी नहीं रहनी चाहिए। डेंगू के खिलाफ अभियान में स्वास्थ्य विभाग व नगर निगम संयुक्त तौर पर टीमें बनाकर कार्य करें।

घरों के साथ-साथ दफ्तरों की होगी चेकिग, लारवा मिलने पर होगा जुर्माना

डीसी ने कहा कि घरों की चेकिग के साथ-साथ सरकारी कार्यालयों की भी चेकिंग करें और लारवा पाए जाने पर चालान किया जाए। उन्होंने जीएम जिला उद्योग केंद्र को निर्देश देते हुए कहा कि वे जिले के उद्योगों को अपने औद्योगिक संस्थानों में फागिग करवाने व डेंगू से बचाव संबंधी सावधानियां अपनाने संबंधी हिदायत दें। इस मौके पर सहायक कमिश्नर(सामान्य) किरपाल वीर सिंह, जिला विकास व पंचायत अधिकारी सर्बजीत सिंह बैंस, जीएम जिला उद्योग केंद्र अरुण कुमार, सहायक सिविल सर्जन डा. पवन कुमार, डा. सैलेश के अलावा नगर परिषदों, नगर पंचायतों के ईओज व नगर निगम के अधिकारी भी मौजूद थे।

Edited By: Jagran