सतीश कुमार, होशियारपुर

कई वर्ष से लोगों की मांग थी कि रेलवे स्टेशन का विस्तार किया जाए क्योंकि दिल्ली जाने वाली गाड़ी होशियारपुर एक्सप्रेस के आधे से ज्यादा कोच प्लेटफार्म से बाहर रह जाते हैं जिसके चलते बुजुर्ग और दिव्यांग यात्रियों को गाड़ी में चढ़ने व उतरने के लिए बहुत ज्यादा मुश्किल का सामना करना पड़ता है। इसके साथ ही व्हीलचेयर भी प्लेट फार्म से बाहर नहीं जा पाती थी। लेकिन अब केंद्रीय राज्य मंत्री और सांसद सोमप्रकाश की तरफ से जनता से किया वादा जल्द पूरा होने जा रहा है। रेलवे बोर्ड फिरोजपुर मंडल ने होशियारपुर के प्लेटफार्म के विस्तार को मंजूरी दे ही है और जल्द ही टेंडर निकलने के बाद काम शुरू हो जाएगा। पता चला है कि केंद्रीय मंत्री सोमप्रकाश ने होशियारपुर और मुकेरियां रेलवे स्टेशन के लिए जो अर्जी रेलवे बोर्ड को दी थी उस पर फिरोजपुर डिवीजन की तरफ से साढे़ आठ करोड़ का बिल पास कर दिया गया है।

24 रेल कोच और दो शेडों का होगा निर्माण

पता चला है कि होशियारपुर रेलवे स्टेशन का विस्तार इस प्रकार से किया जाएगा कि मेल गाड़ी के 24 कोच प्लेटफार्म पर एक साथ खड़े हो जाएं और किसी को भी प्लेटफार्म से बाहर न जाना पड़े। यही नहीं, प्लेट फार्म के साथ शेडों का भी निर्माण किया जाएगा ताकि बारिश के मौसम में भी यात्रियों को किसी प्रकार की कोई मुश्किल पेश न हो। इसके अतिरिक्त माल गोदाम की खस्ताहालत का सुधार तो किया जाएगा व साथ ही इसके ऊपर भी शेड बनाई जाएगी।

यह भी मिलेंगी सुविधाएं

24 कोच का प्लेटफार्म तैयार होने पर यात्रियों के बैठने के लिए बैंच बनेंगे। पीने वाले पानी की सुविधा होगी। दिव्यांग यात्रियो के लिए रैंप का निर्माण करवाया जाएगा। इसके अलावा व्हीलचेयर की व्यवस्था बढ़ाई जाएगी। यात्रियों के लिए शौचालय का प्रबंध भी किया जाएगा।

बाउंडरी वाल का होगा निर्माण

यह भी जानकारी मिली है कि प्लेटफार्म का विस्तार होते ही रेलवे की जमीन की बाऊंडरी वाल की जाएगी और लोगों की तरफ से रेलवे की जमीन पर किया कब्जा भी छुड़वाया जाएगा और बाऊंडरीवाल के पास ही रेलवे कर्मचारियों के लिए क्वाटर बनाए जाएंगे।

होशियारपुर से वृंदावन के लिए पहले ही मिल चुकी मंजूरी

होशियारपुर से वृंदावन के लिए फिरोजपुर डिवीजन से पहले ही मंजूरी मिल चुकी है। लेकिन कोरोना वायरस के चलते रेलवे बोर्ड ने बहुत सारी गाड़ियां फिलहाल रद कर दी है, या फिर अभी शुरू नहीं की हैं। हालात सामान्य होते ही उक्त रेल को चलाने का प्रयास किया जाएगा।

Edited By: Jagran