जेएनएन, होशियारपुर : दैनिक जागरण द्वारा मंडियों में किसानों की समस्याओं को प्रमुखता से उठाने के बाद जिला प्रशासन हरकत में आ गया है। इसके तहत डीसी ईशा कालिया ने होशियारपुर दाना मंडी, हरियाना व कंगमाई सहित अलग-अलग मंडियों का दौरा कर जहां खरीद प्रबंधों का जायजा लिया। वहीं खरीद केंद्रों के प्रबंधों का मुआयना भी किया। इस मौके पर कंट्रोलर खाद्य व आपूर्ति विभाग रजनीश कुमारी, जिला मंडी अधिकारी तेजिदर सिंह व अन्य अधिकारी उपस्थित थे। उन्होंने खरीद एजेंसियों को हिदायत करते हुए कहा कि धान की खरीद के दौरान ढुलमुल रवैया न अपनाया जाए, बल्कि समय पर खरीद यकीनी बनाई जाए। किसानों को मंडियों में किसी तरह की कोई समस्या नहीं आने दी जाएगी व मंडियों में धान का एक-एक दाना उठाया जाएगा। किसान किसी भी तरह की मुश्किल आने पर जिला खाद्य व आपूर्ति कंट्रोलर के कार्यालय के कंट्रोल रुम में शिकायत दर्ज करवा सकते हैं। गौरतलब है कि धान की आमद के बाद किसानों को दाना मंडी में आ रही समस्या को देखते हुए मौका मुआयना कर दैनिक जागरण ने इस मसले को बड़े जोर शोर से उठाया था। यह भी बता दें कि कैबिनेट मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा ने खरीद का रस्मी तौर पर उद्घाटन किया था और इस दौरान घोषणा की थी कि किसानों को मंडियों में मूलभूत सुविधाओं से लेकर अन्य समस्याओं के चलते परेशानी नहीं आने दी जाएगी लेकिन दो दिन में दावों की पोल खुल गई।

3,98,224 मीट्रिक टन धान की पैदावार की उम्मीद

इस सीजन में 3,98,224 मीट्रिक टन धान की पैदावार होने की उम्मीद है व जिले में धान की खरीद शुरूहो गई है। सरकार की ओर से धान की खरीद एमएसपी 1835 रुपये प्रति क्विंटल पर की जाएगी। उन्होंने किसानों को अपील करते हुए कहा कि वे धान की फसल को सूखाकर ही मंडी में लेकर आएं, ताकि उनको किसी भी तरह की कोई परेशानी का सामना न करना पड़े। सरकार की ओर से धान की नमी 17 प्रतिशत निर्धारित की गई है।

अधिकारियों को कड़े निर्देश, न आए किसानों को समस्या

डीसी ईशा कालिया ने मंडियों में किसानों व मजदूरों की सुविधा के लिए किए प्रबंधों का जायजा लेते हुए अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए कि खरीद केंद्रों में बुनियादी सुविधाओं की कमी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। पीने वाले पानी से लेकर सफाई आदि प्रबंध सुचारु तरीके से किए जाएं। किसान धान की पराली को आग न लगाएं, बल्कि पराली का खेत में ही प्रबंधन करने को प्राथमिकता दें। पराली व फसलों के अवशेषों के प्रबंधन के लिए खेती मशीनरी व उपकरण सब्सिडी पर मुहैया करवाए जा रहे हैं।

इन एजेंसियों ने इतनी की खरीद

जिले में गत दिवस तक 30,095 मीट्रिक टन धान की आमद हो चुकी है जिसमें से अलग-अलग खरीद एजेंसियों की ओर से 28,902 मीट्रिक टन धान की खरीद की जा चुकी है। पनग्रेन की ओर से 17119, मार्कफेड की ओर से 3343, पनसप की ओर से 2879, पंजाब स्टेट वेयर हाऊस कारपोरेशन की ओर से 2906, एफसीआइ की ओर से 2135 व व्यापारियों की ओर से 520 मीट्रिक टन धान की खरीद की गई।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!