संवाद सहयोगी, गढ़शंकर : किसान संघर्ष को लेकर केंद्र सरकार की तरफ से अड़ियल रवैया अपनाने के कारण आल इंडिया जाट महासभा व भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय नेता राकेश टिकैत व चौधरी युद्धवीर सिंह ने पश्चिमी बंगाल में महापंचायतें आरंभ की। उनके निर्देशों पर तमाम पदाधिकारियों ने जिस तरह से चुनाव में केंद्र सरकार की किसान विरोधी नीतियों की पोल खोली उसी हिसाब से पश्चिमी बंगाल में भाजपा को जबरदस्त हार मिली है। यह शब्द आल इंडिया जाट महासभा के राष्ट्रीय वरिष्ठ उपाध्यक्ष व पंजाब के अध्यक्ष हरपाल सिंह हरपुरा ने कहे। उन्होंने कहा कि राकेश टिकैत व चौधरी युद्धवीर सिंह की तरफ से पूरे देश में महापंचायतें कर आवाज उठाने का माहौल बना दिया है। अगर भाजपा नेतृत्व वाली केंद्र सरकार ने अपना अड़ियल रवैया जल्द से जल्द नहीं छोड़ा तो आने वाले उत्तर प्रदेश, पंजाब सहित तमाम राज्यों में चुनाव में हार के लिए तैयार रहे। राकेश टिकैत व चौधरी युद्धवीर सिंह जो भी कहेंगे तमाम किसान वह करने से पीछे नहीं हटेंगे। इस बात को भाजपा को अब ध्यान में रखना चाहिए। किसान तब तक डटे रहेंगे जब तक कृषि सुधार कानून रद नहीं होते, एमएसपी की लीगल गारंटी नहीं दी जाती और बिजली संशोधन व पराली जलाने के विधेयक वापस नहीं लिए जाते। इस मौके पर पंजाब के महासचिव अजायब सिंह बोपाराय, चंडीगढ़ के अध्यक्ष रजिद्र सिंह बढ़हेड़ी, पंजाब के सलाहकार सुखवीर सिंह मिन्हास, होशियारपुर जिले के अध्यक्ष अमरपाल सिंह काका, रोपड़ के अध्यक्ष जैलदार सतविदर सिंह, मोहाली के अध्यक्ष सुखदेव सिंह कंसाला, जालंधर के अध्यक्ष जसप्रीत सिंह मौजूद थे।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021