जागरण संवाददाता, होशियारपुर

जिला परिषद के चुनाव में भाजपा के लिए अशुभ संकेत मिले हैं। पहले तो भाजपा की टिकट पर इस सीट से चुनाव लड़ाने के लिए हाईकमान ने कई नेताओं को आफर दी, लेकिन वह लड़ने के लिए तैयार नहीं हुए। चुनावी गोटियां फिट करके उम्मीदवार भी उतारे। मगर, मंगलवार को जहानखेलां जिला परिषद सीट से भाजपा को उस समय करारा झटका लगा, जब भाजपा की तरफ से नामांकन दाखिल करने वाले एक उम्मीदवार का नामांकन रद हो गया और दूसरे उम्मीदवार ने चुनावी मैदान में कूदने से पहले ही मैदान छोड़ दिया। इससे इस सीट से भाजपा का पत्ता साफ हो गया है। इस सीट के लिए भाजपा का कोई उम्मीदवार ना होने से कांग्रेस में लड्डू फूट गए हैं। भाजपा को चुटकी काटते हुए कैबिनेट मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा ने कहा कि भाजपाई तो चुनाव मैदान में उतरने से पहले ही हार मानने लगे हैं। क्योंकि उन्हें पता है कि कांग्रेस की आंधी के आगे वह टिक नहीं सकेंगे। इसलिए वह मैदान छोड़ने लगे हैं। होशियारपुर में भाजपा का खात्मा हो चुका है।

उधर, भाजपा के जिला प्रधान विजय पठानिया ने कहा कि कांग्रेस सत्ता के नशे में चूर होकर भाजपा उम्मीदवारों के साथ धक्केशाही कर रही है। उनके उम्मीदवारों को डराया धमकाया जा रहा है। कांग्रेस ओछी राजनीति पर उतारू हो गई है।

बता दें कि भाजपा ने जिला परिषद जहानखेलां सीट के लिए बलवंत ¨सह मैहतपुर और छावनीकलां के सरपंच सु¨रदर पप्पी को उम्मीदवार बनाया था। इससे पहले इस सीट के लिए भाजपा हाईकमान ने अपने कई सीनियर नेताओं को चुनाव लड़ने की आफर दी थी, लेकिन वे तैयार नहीं हुए थे। मंगलवार को नामांकन पत्रों की पड़ताल के दौरान बलवंत ¨सह का नामांकन रद हो गया। उसके खिलाफ अदालत में केस चल रहा है। दूसरी तरफ, अब भाजपा को आस बची थी सरपंच सु¨रदर पप्पी पर, लेकिन सु¨रदर पप्पी ने भाजपा को धोखा देते हुए अपने नामांकन पत्र ही वापस ले लिए। इसके साथ ही जिला परिषद जहानखेलां सीट से भाजपा के चुनाव लड़ने का खेल खत्म हो गया। यहां से कांग्रेस की तरफ से सुमित्तर सीकरी चुनाव लड़ रहे हैं।

---------------

हार के डर से मैदान छोड़ने लगी भाजपा : अरोड़ा

कैबिनेट मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा ने कहा है कि जिला परिषद चुनाव में हार का डर भाजपा को कुछ इस हद तक सता रहा था कि भाजपा पहले ही मैदान छोड़ भाग गई है। जहानखेलां जिला परिषद सीट से पहले तो भाजपा को कोई उम्मीदवार ही नहीं मिल रहा था, अगर मिले भी तो एक-एक करके वह हार से डरते हुए पहले ही मैदान छोड़कर भाग गए। इतना ही नहीं भाजपा द्वारा इस सीट से खड़ा किया गया एक उम्मीदवार तो अदालत द्वारा भगोड़ा करार दिया गया था। जिस पर उसने एक नया उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतारा था, मगर वो भी मैदान छोड़कर भाग गया। अरोड़ा ने कहा कि लोग भाजपा की जनविरोधी नीतियों को न केवल कोस रहे हैं बल्कि भाजपा को हर चुनाव में सबक सिखाने के लिए ही कमर कस चुके हैं।

उन्होंने कहा कि जिला परिषद चुनाव सहित ब्लॉक समिति में भी कांग्रेस की जीत होगी। विधानसभा क्षेत्र होशियारपुर में पड़ती जिला परिषद की एक मात्र सीट से भाजपा का भागना सिद्ध करता है कि लोग अब इनकी गुंडागर्दी और धक्केशाही को नहीं सहेंगे। युद्ध में जब कोई योद्धा लड़कर मरता है या हारता है, तो उसके बाद ही उसे विजेता या शहीद का दर्जा मिलता है। मगर, जो लोग लड़ने से पहले ही मैदान छोड़ जाते हैं उन्हें क्या कहा जाता है, यह बात हम सभी जानते हैं।

Posted By: Jagran