हजारी लाल, होशियारपुर

शहरी कांग्रेस अध्यक्ष एडवोकेट राकेश मरवाहा को कांग्रेस की लंबी सेवा के बाद इंप्रूवमेंट ट्रस्ट होशियारपुर का चेयरमैन का तोहफा मिला है। कांग्रेस के प्रति उनकी ईमानदारी को देखते हुए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिदर सिंह ने उन्हें यह तोहफा दिया है। कैबिनेट मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा के मरवाहा खासमखास हैं। करीब पच्चीस साल पहले मरवाहा कांग्रेस से जुड़े थे और तब से लेकर आज तक उन्होंने पूरी ईमानदारी से कांग्रेस की सेवा की है। मरवाहा को कैबिनेट मंत्री अरोड़ा के प्रति हमेशा वफादार रहे हैं। इसी वजह से मंत्री ने उन्हें अपना आशीर्वाद दिया और कैप्टन अमरिदर सिंह ने मरवाहा के नाम पर मुहर लगा दी। चेयरमैनी की दौड़ में मरवाहा ने कई कांग्रेसियों को पीछे छोड़ दिया।

बता दें कि शहर के मरवाहा मोहल्ला के रहने वाले एडवोकेट राकेश मरवाहा 1995 में यूथ कांग्रेस की सदस्यता हासिल ली थी। उसके बाद से ही वह कांग्रेस की सेवा करने में जुटे रहे। मरवाहा की वफादारी को देखते हुए 1996 में जिला कांग्रेस कार्यालय में आफिस सेक्रेटरी की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। उसे भी उन्होंने बाखूबी निभाई। 1998 में मरवाहा नेशनल स्टूडेंट यूनियन इंडिया के जिलाध्यक्ष बने। उनकी सक्रियता को देखते हुए दो साल बाद ही उन्हें सिटी कांग्रेस के महासचिव की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। 2007 में सिटी कांग्रेस के मीडिया इंचार्ज बनें। 2011 में सिटी कांग्रेस ग्रामीण के अध्यक्ष बने। 2018 में शहरी कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया गया। मंत्री अरोड़ा के चुनाव में अहम भूमिका निभाते रहे हैं मरवाहा

विधानसभा के चुनाव सन 2012 में सुंदर शाम अरोड़ा ने होशियारपुर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा था। मरवाहा अरोड़ा के इलेक्शन इंचार्ज थे। चुनाव प्रक्रिया को मरवाहा ने अच्छी तरीके से अंजाम दिया और अरोड़ा ने शानदार जीत हासिल की थी। इसके बाद 2017 के भी विधानसभा चुनाव में मरवाहा अरोड़ा के इलेक्शन इंचार्ज थे। इस बार भी अरोड़ा ने शानदार जीत हासिल की थी। राजनीतिक पंडितों का मानना है कि अपनी ईमानदारी, स्वच्छ छवि और मंत्री अरोड़ा के प्रति वफादारी ने मरवाहा को आज इंप्रूवमेंट ट्रस्ट होशियारपुर का चेयरमैन बनाने में अहम भूमिका निभाई। यामिनी गोमर का नाम भी था दौड़ में

इंप्रूवमेंट ट्रस्ट के चेयरमैन के लिए कई कांग्रेसी दौड़ में थे, लेकिन पद की बाजी मारने में मरवाहा कामयाब हो गए। लोकसभा चुनाव से पहले आप छोड़ कर कांग्रेस में शामिल हुईं यामिनी गोमर का नाम चेयरमैन के लिए जोर से चल रहा था, लेकिन लोकसभा चुनाव होने के बाद उनका नाम ठंडे बस्ते में चला गया। इसके बाद कई कांग्रेसी पार्षदों और कुछ अन्य कांग्रेसियों की इच्छा थी कि वह चेयरमैन बने। मगर बाजी मारने में मरवाहा कामयाब हुए। हाईकमान की उम्मीदों पर खरा उतरूंगा: मरवाहा

मरवाहा ने कहा कि वह हाईकमान की उम्मीदों पर खरा उतरेंगे। इतनी बड़ी सौंपी गई जिम्मेदारी के लिए उन्होंने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और कैबिनेट मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा का आभार जताया है। उन्होंने कहा कि शहर की बेहतरी के लिए हर संभव कोशिश करेंगे। मरवाहा राजनीति के साथ जिला कचहरी में प्रेक्टिस भी करते हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!