जागरण टीम, गुरदासपुर, काहनूवान : नवंबर महीने के अंतिम दिन सर्दियों की पहली धुंध पड़ी। इससे वाहनों की रफ्तार भी थम गई और विजिबिलिटी 25 मीटर तक रही। धुंध से वाहन रेंगते हुए नजर आए। सबसे अधिक परेशानी स्कूली बच्चों और कामकाज करने वाले लोगों को हुई। हालांकि बाद में धुंध की चादर हटने से धूप खिल गई।

मंगलवार सुबह जैसे ही लोग उठे तो देखा कि चारों तरफ धुंध ही धुंध है। कुछ ही दूरी पर धुंध के कारण दिखाई नहीं दे रहा था जबकि साथ में ही हवाएं भी चलती रहीं। धुंध के कारण सुबह के समय स्कूलों को जाने वाले विद्यार्थियों व अध्यापकों के अलावा कामकाज करने वाले लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। यदि सर्दी के आमद के बारे में बात की जाए तो यह सर्दी की पहली धुंध है। किसानों का कहना है कि यह धुंध हाल की घड़ी में गेहूं की फसल के लिए बेहद लाभदायक है। यदि आगामी दिनों में बारिश होती है तो धुंध के और भी बढ़ने के आसार हैं। सुबह गर्म कपड़े पहनकर ही करें सैर

उधर, डाक्टर भूपिदर सिंह व जगजीत सिंह का कहना है कि सर्दी धीरे-धीरे जोर पकड़ रही है। सुबह के समय सैर करने वाले लोगों को गर्म कपड़े पहनकर ही जाना चाहिए। छोटे बच्चों व बुजुर्गो का अपनी सेहत की ओर भी विशेष ध्यान देने की जरूरत है। पशुपालन का काम करने वाले चरणजीत सिंह, बलजिदर कुमार व सरूप सिंह ने कहा कि बढ़ती जा रही सर्दी को देखते हुए पशुओं की संभाल के लिए और भी चौकसी बढ़ा दी है। अधिक सर्दी बढ़ने से पशुओं के दूध में कमी आ सकती है।

Edited By: Jagran