संवाद सहयोगी, काहनूवान : भैणी मियां खां जिला गुरदासपुर में किसान मजदूर संघर्ष कमेटी पंजाब की बैठक हुई। इस मौके पर संबोधित करते हुए किसान नेता सरवन सिंह ने कहा कि केंद्र सरकार लखीमपुर खीरी के दोषियों को दंडित करने से बचाने के लिए दिल्ली आंदोलन के खिलाफ साजिश रच रही है। सिंघु बार्डर की घटना भी केंद्र सरकार की मिलीभगत साजिश है। उन्होंने किसानों को आग्रह करते हुए कहा कि भविष्य में भारत सरकार की एजेंसियां, आरएसएस ऐसी घटनाओं और आंदोलनों पर हमला कर सकती हैं और केंद्रीय भाजपा के आइटी सेल का इस्तेमाल सामाजिक पर धर्मों, संप्रदायों और समुदायों के विभाजन बनाने के लिए किया जा सकता है। किसान आंदोलन के खिलाफ प्लानिग की जा रही है। वर्तमान में भी हिंदुओं, सिखों और हिदुओं और मुसलमानों के बीच विभाजन पैदा करने के लिए ऐसी पोस्ट बनाई जा रही हैं। दिल्ली मोर्चा पूरे जोश के साथ चल रहा है। केंद्र सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि पांच नवंबर को बड़ी संख्या में किसान टांडा फोकल प्वाइंट से दिल्ली मोर्चा के लिए रवाना होंगे। इस मौके पर वस्सन सिंह, गुरप्रीत कौर कोटली आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran