जागरण संवाददाता, गुरदासपुर : शिवसेना बाला साहेब ठाकरे की बैठक रमन शर्मा की अध्यक्षता में शिवसेना कार्यालय में हुई। इसमें राज्य उपप्रमुख व छह जिलों के इंचार्ज हरविदर सोनी विशेष रूप से शामिल हुए।

हरविदर सोनी ने कहा कि हर सरकार चाहे किसी भी पार्टी की होती है वो सिर्फ सरमायेदारों के फायदों का ही सोचती है और गरीब समुदाय को सिर्फ वोट बैंक ही समझती है। उन्होंने कहा कि सरकारों की नीतियां ही ऐसी होती हैं कि गरीब को शिक्षा तथा स्वास्थ्य सुविधाओं जैसी प्राथमिक सुविधाएं भी नहीं मिल पाती हैं। शिक्षा, रोजगार और स्वास्थ्य प्राप्त करने के लिए मोटी राशि की जरूरत होती है, जो गरीब के बस की बात नहीं होती। उन्होंने कहा कि कहने को तो सरकारें सरकारी अस्पतालों, स्कूलों में मुफ्त स्वास्थ्य सहायता तथा मुफ्त शिक्षा उपलब्ध करवाती हैं पर ये सिर्फ दिखावा मात्र होती हैं। सरकारी अस्पतालों में भ्रष्टाचार के कारण न तो मुफ्त दवाइयां मिल पाती हैं न सही इलाज होता है। स्कूलों में शिक्षा सिर्फ कागजों में ही दिखाई देती है।

सोनी ने उदाहरण देते हुए कहा कि अगर सरकारी अस्पतालों में मुफ्त और सही इलाज मिल रहा होता तो गरीबों को कर्ज लेकर भी निजी अस्पतालों में इलाज करवाने को मजबूर न होना पड़ता। ठीक इसी तरह सरकारी स्कूलों में शिक्षा प्राप्त करने वाले विद्यार्थी बहुत कम मात्रा में जीवन मे कामयाब हो पाते हैं। इन स्कूलों में शिक्षा सिर्फ रिकार्ड बुक में दिखाई देती है असलियत में कुछ नहीं होती। इसलिए आज गरीब वर्ग को उनका हक दिलवाने के लिए महादेव ई सेना का गठन किया गया है। इसका उद्देश्य धर्म, पार्टीबाजी और स्वार्थ से इतर सिर्फ गरीब वर्ग के हकों के लिए लड़ाई लड़ना होगा। सोनी में कहा कि सेना के प्रत्येक सदस्य ने शपथ ग्रहण करते हुए प्रण किया है कि गरीब वर्ग चाहे वो रिक्शावाला हो मजदूर हो या फिर बेरोजगार हो वो हरेक के लिए संघर्ष करने से पीछे नही हटेगा। सोनी ने बताया कि पहले चरण में ई रिक्शा चलाने वाले 100 लोगों को स्टिकर जारी करके शुरुआत की गई है। इस मौके पर कपिल शर्मा, अमन कुमार, डेनियल, अनिल चावला, बलजीत सिंह, बिल्ला, रछपाल सिंह, धर्मपाल, गुरजंट सिंह, प्यारा लाल, धरमिदर सिंह, अमन शर्मा, प्रेम महाजन, दिनेश शास्त्री, दीपक कुमार, प्रदीप शर्मा, कर्म सिंह, राजकुमार आदि उपस्थित थे।

Edited By: Jagran