संवाद सहयोगी, कलानौर :

बाबा कार सिंह स्टेडियम कलानौर (गुरदासपुर) में लगाए गए जिला स्तरीय किसान सिखलाई कैंप में बड़ी संख्या में पहुंचे किसानों को कृषि विभाग के विशेषज्ञों ने बहुमूल्य जानकारी प्रदान की।

मेले में पंजाब के डिप्टी सीएम सुखजिदर सिंह रंधावा के पुत्र उदयवीर सिंह रंधावा, ज्वाइंट डायरेक्टर बलदेव सिंह, जिला मुख्य कृषि अधिकारी डा. कुलजीत सिंह सैनी आदि मौजूद रहे। इस दौरान विभिन्न विभागों की ओर से प्रदर्शनी भी लगाई गई।

किसानों को संबोधित करते हुए उदयवीर सिंह रंधावा ने बताया कि उनके पिता सुखजिदर सिंह रंधावा ने इस कैंप में शामिल होना था, लेकिन जरुरी कार्यो के चलते वह यहां पर नहीं आ सके। उन्होंने कहा कि किसान मेले किसानों के लिए लाभदायक होते हैं। इस दौरान कृषि विशेषज्ञों ने अलग अलग फसलों की बिजाई और सिंचाई की जानकारी दी। उन्होंने अलग अलग विभागों द्वारा लगाई गई प्रदर्शनियों को देखा और कहा कि पंजाब सरकार द्वारा कई स्कीमों में बड़े स्तर पर सब्सिडी प्रदान की जाती है।

पराली संभाल के लिए लगाया जा रहा है प्लांट

उदयवीर ने कहा कि सहकारिता विभाग द्वारा पराली की सही संभाल के लिए रखड़ा मिल को पुनर्जीवित करके करीब 200 करोड़ की लागत से प्लांट लगाया जा रहा है, जहां पर किसान अपनी पराली बेचकर मुनाफा कमा सकेंगे।

जरूरत के अनुसार प्रयोग करें कीटनाशक और खाद

ज्वाइंट डायरेक्टर बलदेव सिंह ने कहा कि किसानों को जरुरत अनुसार खाद व कीटनाशक दवाइयों का प्रयोग करना चाहिए और अपनी निगरानी में इनके प्रयोग को यकीनी बनाना चाहिए। किसानों को यूरिया की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी।

सहायक व्यवसाय को अपना कर बढ़ाएं आमदनी

मुख्य कृषि अधिकारी डा. कुलजीत सिंह सैनी ने कहा कि किसानों को मुख्य कृषि व्यवसायों के साथ-साथ सहायक व्यवसायों को अपना कर आमदनी बढ़ानी चाहिए। उन्होंने कहा कि जैविक खेती और सब्जियों और दालों की खेती के लिए भी किसानों को प्रोत्साहित किया। कृषि अधिकारी ने कहा कि समय की मांग है कि अत्याधुनिक कृषि उपकरणों का अधिक से अधिक उपयोग किया जाए न कि पराली में आग लगाई जाए। उन्होंने कहा कि अवशेष को जलाने से पर्यावरण प्रदूषित होता है और भूमि की उर्वरता भी कम होती है।

ये रहे मौजूद : इस मौके पर चेयरमैन मार्केट कमेटी कलानौर भगवंत सिंह, चेयरमैन मार्केट कमेटी डेरा बाबा नानक हरदीप सिंह गोराया, नरिदर सिंह बाजवा, कश्मीर सिंह, प्रभसिरमन सिंह, नरिदर सोनी, हरमिदरपाल सिंह, डा. सहबाज सिंह चीमा, डा. अमृत सिंह, डा. रणधीर ठाकुर, डा. हीरा सिंह, डा. बलजीत सिंह आदि उपस्थित थे

Edited By: Jagran