संवाद सहयोगी, गुरदासपुर : जिले में वीरवार को किसानों ने तीन जगहों पर रेल पटरियों पर धरना दिया। गुरदासपुर सिटी रेलवे स्टेशन, औजला फाटक व बटाला में किसान रेल पटरी पर दोपहर 12 बजे से शाम चार बजे तक धरने पर बैठे। वर्तमान समय में गुरदासपुर रेलवे स्टेशन से कोई भी यात्री ट्रेन नहीं चलती व गुजरती है। यहां से चलने व गुजरने वाली ट्रेनें कोरोना काल से ही बंद पड़ी हैं। मालगाड़ियां ही कभी कभार चलती हैं। फिर भी किसान संगठनों ने चार घंटे रेलवे स्टेशन के पटरी पर धरना दिया। कृषि कानूनों के विरोध में संयुक्त किसान मोर्चे के निमंत्रण पर यह धरना दिया गया। धरने में बड़ी संख्या में शामिल किसानों ने केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

उधर किरती किसान यूनियन ने भी गुरदासपुर के औजला फाटक रेलवे पटरी पर धरना दिया। किसान नेताओं ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार द्वारा किसानों के संघर्ष को अनदेखा किया जा रहा है। पिछले कई महीनों से किसान लगातार धरना देते आ रहे हैं। मगर सरकार किसानों की तरफ बिल्कुल भी ध्यान नहीं दे रही। उन्होंने कहा कि किसान अब जबकि केंद्र सरकार के गलत मंसूबों के खिलाफ खड़े हो गए हैं। उन्होंने बताया कि जिले में दोपहर 12 से शाम चार बजे तक धरना दिया है। उन्होंने कहा कि किसान लगातार संघर्ष कर रहे हैं। भले ही सरकार किसानों को दबा रही है,लेकिन किसान अपने संघर्ष को खत्म नहीं करेंगे। जब से केंद्र में मोदी सरकार आई है तब से किसान, आम वर्ग, व्यापारी वर्ग के खिलाफ फैसले लिए जा रहे हैं। आब हालात यह बन चुके हैं कि लोग आर्थिक तौर पर कमजोर हो चुके हैं। सरकार की गलत नीतियों के खिलाफ डटकर संघर्ष करेंगे। इस मौके पर किसान गुरप्रीत सिंह, सुरजीत सिंह, संतोख सिंह,जगीर सिंह, गुरप्रीत सिंह, सतबीर सिंह, मेजर सिंह, अशोक, हरभजन सिंह, बलबीर सिंह आदि उपस्थित थे।

Edited By: Jagran