बाल कृष्ण कालिया, गुरदासपुर

ब्यास दरिया के पास स्थित अवैध शराब की तस्करी को लेकर बदनाम गांव मोचपुर में एक्साइज विभाग की टीम डेरा डालकर बैठ चुकी है। यहां पर लगातार 200 से अधिक बार रेड करके अवैध शराब का धंधा करने वाले तस्करों की नाक में दम किया जा रहा है। ईटीओ राजिदर तनवर का कहना है कि विधानसभा चुनाव को लेकर जिले को अवैध शराब के धंधे से मुक्त करने के लिए विभाग के उच्च अधिकारियों के दिशा निर्देशों व डिप्टी कमिश्नर मोहम्मद इशफाक के नेतृत्व पर आधारित टीमों के आधार पर लगातार कार्रवाई की जा रही है।

उन्होंने कहा कि बदनाम इलाके में एक्साइज विभाग की टीम तैनात कर दी गई है, जो दिन रात इस इलाके पर अपनी पैनी नजर रखेगी। अगर विभाग की टीम को जरूरत पड़ती है तो ड्रोन के माध्यम से भी तस्करों का पता लगाया जाएगा। इसी कड़ी में मंगलवार सुबह पांच बजे एक्साइज विभाग के ईटीओ राजिदर तनवर, इंस्पेक्टर हरविदर सिंह इंस्पेक्टर अजय शर्मा व अन्य पुलिस अधिकारियों के साथ मिलकर इस इलाके में दबिश दी गई। वहां पर गन्ने के खेतों में दबाई हुई 35 लीटर अवैध शराब और 500 लीटर लाहन बरामद की गई।

बता दें कि एक्साइज विभाग की टीम ने इस गांव में अवैध शराब की तस्करी को रोकने के लिए पूरा ध्यान केंद्रित कर लिया है। इससे पहले सोमवार को गुरदासपुर शहर में अवैध शराब का धंधा करने वाले कुछ इलाकों में एक्साइज विभाग की टीम ने रेड की थी। हालांकि इस दौरान पुलिस को कुछ हासिल नहीं हुआ है जबकि जिन जगह पर रेड की गई है वहां पर अवैध शराब का धंधा लंबे समय से चल रहा है। नशा मुक्त करना फोकस : ईटीओ

ईटीओ राजिंदर तनवर का कहना है कि उक्त गांव को नशा मुक्त करना विभाग का मुख्य मकसद है। वहां पर अवैध शराब की तस्करी से लाइसेंसी शराब के ठेकेदारों को भारी नुकसान होता है। इसके चलते शराब के काले कारोबार को रोकने के लिए विभाग की ओर से पांच टीमों का गठन किया गया है। आने वाले चुनाव में यहां के तस्कर आसपास के गांव में शराब तस्करी ना कर सके इसके लिए विभाग की टीम लगातार इन पर अपनी नजर बनाए हुए हैं।

Edited By: Jagran