संवाद सहयोगी, काहनूवान : अधिकतर किसानों द्वारा कंबाइन हार्वेस्टर के साथ अपनी धान की कटाई करवाई जा रही है। गौरलतब है कि एक दशक से पहले धान की कटाई कंबाइनों के साथ-साथ मजदूरों से करवाई जाती रही है। फिर मजदूरों की किल्लत व किसानों के पास समय की कमी व मौसम की खराबी के कारण कंबाइनों पर ही धान की कटाई करवाई जाने लगी। आज भी जब अधितकर जगहों पर देखा गया तो धान की कटाई कंबाइनों के साथ हो रही है।

किसानों ने बताया कि इस बार धान की फसल बेमौसम बरसात व अन्य कीटनाशक बीमारियों से बची हुई है। इसलिए उनकी ओर से फसल की कटाई शुरू कर दी गई है। धान की कटाई संबंधी कुछ कंबाइन मालिकों मंगल सिंह, रणदीप सिंह, अवतार सिंह ने बताया कि बढ़े हुए खर्चो के बावजूद भी उनको कई साल पुराने कटाई की कीमतों पर धान की कटाई करनी पड़ रही है। इस कारण उनकी आर्थिक हालत पतली हो चुकी है। इसके अलावा सरकार ने कंबाइन मालिकों पर एसएमएस लगाने के लिए पाबंद किया हुआ है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!