संवाद सहयोगी, काहनूवान: आशा वर्कर व फेसिलिटेटरों ने काहनूवान के विभिन्न सब सेंटरों पर रोष प्रदर्शन किया। जिला नेता अमरजीत शास्त्री के नेतृत्व में हुए प्रदर्शन में रेखा देवी, जीवन ज्योति, नीना, रजवंत कौर, शमा कुमारी व वेलट ने कहा कि सरकार ने मांगों का उचित समाधान करने की बजाए नामात्र भत्तों पर गुजारा कर रही आशा वर्कर व फेसिलिटेटरों की हालत के प्रति गैर संवेदनशील रवैया अपनाया जा रहा है।

शास्त्री ने पंजाब सरकार पर आरोप लगाया कि पांच वर्करों को कोविड-19 होने पर सेहत विभाग के अधिकारी मात्र कागजी हमदर्दी दिखा रहे है। डयूटी के दौरान मौत हो जाने पर वर्करों के आश्रितो को तरस के आधार पर नौकरी व बनती आर्थिक सहायता दी जाए।

आशा वर्करों को कम से कम दिहाड़ी के कानून में लाकर प्रति महीना 9958 रुपए व फेसिलिटेटरों को आंगनवाड़ी सुपरवाइजरों का स्केल दिया जाए। इसके अलावा टूर भत्ता 250 रुपये प्रति टूर, भोजन भत्ता 50 रुपये रोजाना व फेसिलिटेटरों को रिकार्ड रखने के एक हजार रुपये प्रति महीना अलग से दिया जाए। इसके अलावा अन्य मांगों को भी पूरा किया जाए। यदि ऐसा न हुआ तो संघर्ष को और तेज किया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!