संवाद सहयोगी, गुरदासपुर : गत शुक्रवार को धारीवाल के वार्ड नंबर-2 में हुए नगर कौंसिल के उपचुनाव के दौरान कांग्रेसियों और अकाली-भाजपा के बीच हुए विवाद ने नया मोड़ ले लिया है। पिछले दो दिनों से जहां अकाली भाजपा पार्टी के लोग कांग्रेस पार्टी पर धक्केशाही कर जीतने का आरोप लगा रहे थे। वहीं अब इस मामले में नया ट्विस्ट आ गया है। गुरदासपुर की पुलिस लाइन में तैनात एएसआइ बलविदर सिंह ने अकाली भाजपा नेताओं और वर्करों पर चुनावी ड्यूटी देते समय वर्दी फाड़ने और पगड़ी उछालने की थाना धारीवाल में शिकायत दी है। इसके आधार पर धारीवाल थाने की पुलिस ने अकाली-भाजपा पार्टी से संबंधित आठ नामजद सहित 50 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। हालांकि अभी तक सभी आरोपित फरार हैं। इन सभी को पकड़ने के लिए पुलिस ने छापेमारी तेज कर दी है।

पुलिस को दी शिकायत में एएसआइ बलविदर सिंह ने बताया कि 21 जून को धारीवाल के वार्ड नंबर 2 में नगर कौंसिल के उपचुनाव में मैं पोलिग स्टेशन के बाहर ड्यूटी दे रहा था। मतदान होने के बाद पोलिग स्टाफ द्वारा मतगणना का परिणाम घोषित करके रिटर्निग अधिकारी गुरदासपुर के कार्यालय में विजेता को प्रमाण पत्र देने का प्लान था। लेकिन मौके पर मौजूद अकाली-भाजपा से संबंधित लोगों ने परिणाम वहीं घोषित करने और प्रमाण पत्र मौके पर देने की बात करते हुए हंगामा करना शुरू कर दिया। उक्त लोग नारे लगाते हुए पोलिग स्टेशन के अंदर धक्के मारते हुए दाखिल हो गए। पुलिस पार्टी ने इनको ऐसा करने से रोका तो आरोपित शमशेर सिंह ने उनको धक्के मारते हुए उनकी वर्दी फाड़ दी और पुलिस पगड़ी भी उछाल दी। ऐसा करके आरोपितों ने पुलिस की ड्यूटी में विघ्न डाला है और ड्यूटी पर तैनात मुलाजिम की वर्दी फाड़ कर नियमों की अवहेलना की है। ईवीएम ले जा रहे गाड़ी को रोकने पर अकाली-भाजपा के वर्करों पर किया गया था लाठीचार्ज

गौरतलब है कि शुक्रवार को धारीवाल के वार्ड नंबर-2 के उप चुनाव के चलते सुबह आठ बजे से शाम चार बजे तक डीएवी सीनियर सेकेंडरी स्कूल धारीवाल में वोटिग प्रक्रिया चली। यह वार्ड पहले भाजपा के कब्जे में थी, लेकिन कुछ माह पहले पार्षद सरोज रानी का निधन होने कारण यह सीट खाली हो गई थी। इस बार उप चुनाव में भाजपा की ओर से गौरी और कांग्रेस की ओर से प्रवीन चुनाव मैदान में थे। शुक्रवार निर्धारित प्रोग्राम के तहत मतदान के तुरंत बाद वोटों की गिनती की जानी थी, लेकिन चुनाव अमले की ओर से यह कह कर गिनती का काम शुरू नहीं किया गया कि वह रिटर्निग अधिकारी का इंतजार कर रहे हैं। जब एक घंटे तक भी गिनती शुरू नहीं हुई तो मौके पर मौजूद भाजपा और अकाली वर्करों को कांग्रेस की ओर हेराफेरी करने का संदेह हुआ। चुनाव अधिकारियों का कहना था कि वे गुरदासपुर जा रहे हैं, जहां गिनती की जाएगी। इसके चलते वहां पर मौजूद अकाली भाजपा वर्करों ने इस गाड़ी को रोक लिया और नारेबाजी करनी शुरू का दी। वे गाड़ी को आगे नहीं जाने दे रहे थे। इसके चलते पुलिस ने लोगों को वहां से खदेड़ने के लिए लाठीचार्ज करना शुरू कर दिया। इसके बाद भड़के अकाली भाजपा वर्करों ने धारीवाल के डडवां चौक में चक्का जाम कर दिया था। इस मौके पर भाजपा के जिला प्रधान बाल कृष्ण मित्तल, मंडल प्रधान ज्योति महाजन, अकाली नेता गुरइकबाल सिंह माहल, कंवलप्रीत सिंह काकी, जत्थेदार रतन सिंह जफरवाल, वरिदरपाल गोरा सहित बड़ी संख्या में वर्कर मौजूद थे। इसके बाद जैसे ही उन्हें पता चला कि पुलिस ईवीएम मशीनें व उम्मीदवारों को लेकर गुरदासपुर डीसी कार्यालय पहुंच गई है तो सभी वहां से धरना उठाकर डीसी कार्यालय में पहुंच गए। पहले तो सभी ने अंदर जाने का प्रयास किया, लेकिन जिला प्रशासन द्वारा वहां पर पहले से ही भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया था। इसके चलते सभी डीसी कार्यालय के मेन गेट के सामने ही धरना लगाकर बैठ गए और कांग्रेस पार्टी के खिलाफ नारेबाजी करनी शुरू कर दी। आरोपितों को पकड़ने के लिए की जा रही छापेमारी : एसआइ

मामले की जांच कर रहे एसआइ जगदीश सिंह ने बताया कि एएसआइ बलविदर सिंह के बयानों के आधार पर अकाली नेता गुरिदरपाल सिंह पुत्र प्रेम सिंह निवासी कादियां, कंवलजीत सिंह पुत्र धीरज सिंह निवासी बहूरिया सैनियां, जोनसन पुत्र एमैनुअल निवासी रणियां, गुरइकबाल सिंह पुत्र जरनैल सिंह निवासी कादियां, कुलबीर सिंह पुत्र कर्म सिंह निवासी बेदी कालोनी धारीवाल, शमशेर सिंह पुत्र मलूक सिंह निवासी जोगी चीमा, धर्मपाल सिंह पुत्र अमरनाथ निवासी बल्ल, शीरा निवासी सिघपुरा सहित 50 अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करके अगली कार्रवाई आरंभ कर दी गई है। जांच अधिकारी ने बताया कि आरोपितों को पकड़ने के लिए लगातार छापेमारी की जा रही है। जल्द ही आरोपित पुलिस की गिरफत में होंगे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!