संवाद सहयोगी, जुगियाल (पठानकोट) : भारत विकास परिषद शाखा शाहपुर कंडी की ओर से शाखा अध्यक्ष मनोज शर्मा की अध्यक्षता मे क्षेत्र के 13 स्कूलों मे भारत को जानों की लिखित परीक्षा करवाई गई। जिसमें 13 स्कूलों के 730 कनिष्ठ और 895 वरिष्ठ वर्ग से कुल 1625 छात्रों ने भाग लिया।

इस की जानकारी देते हुये शाखा सचिव विवेक सैनी ने बताया कि शाखा शाहपुर कंडी की ओर से आकलैंड पब्लिक स्कूल जुगियाल, वैष्णवी पब्लिक स्कूल घोह, सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल शाहपुर कंडी टाउन शिप, सरकारी मॉडल स्कूल शाहपुर कंडी टाउन शिप, सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल उच्चा थड़ा, सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल कोट मट्टी, सरकारी मिडल स्कूल डूंग, बीबी रहमते पब्लिक स्कूल कोट, विवेका नन्द पब्लिक स्कूल कोट, एम जी हाई स्कूल आदर्श नगर, प्रेम ज्योति पब्लिक स्कूल शाहपुर कंडी, श्री राम विद्या मंदिर बढ़ोई और सरकारी मिडल स्कूल कलानू मे भारत को जानों प्रकल्प के तहत लिखित परीक्षा करवाई गई जिस मे दोनों वर्गो से कुल 1625 विद्यार्थियों ने भाग लिया।

उन्होंने बताया कि परीक्षा में पहले और दूसरे स्थान पर दोनों वर्गो से आने वाले विद्यार्थियों टीम के रूप मे मौखिक प्रश्नोत्तरी प्रतियोगता 28 अक्टूबर दिन मंगलवार को जेडीएस कॉलेज आफ एजुकेशन कोट ब्लाक धार मे होगी। जिसकी सूचना सभी स्कूलों को लिखित रूप मे शाखा द्वारा भेज दी जायेगी। इस मौके पर भारत विकास परिषद पंजाब प्रांत के प्रांतीय संगठन मंत्री केके महाजन और जिला पठानकोट के अध्यक्ष केके हैप्पी तथा जिला पठानकोट के अतिरिक्त महा सचिव राकेश महाजन विशेष रूप मे उपस्थित हुए।

केके महाजन ने बताया कि यह बहुत ही खुशी की बात है कि भारत विकास परिषद शाखा शाहपुर कंडी की ओर से क्षेत्र के सभी स्कूलों मे यह प्रतियोगता करवाई है। उन्होने कहा कि ऐसी प्रतियोगता करवाने से हमारे बच्चों को भारत की संस्कृति के साथसाथ पूरे भारत और भरत के बारे मे पूर्ण रूप मे जानकारी मिलती है। उन्होने बताया कि 28 अक्टूबर को होने वाली प्रतियोगता मे से जिस भी स्कूल की टीम पहले स्थान पर आये गी वह टीम 02 नंवबर को नवांशहर मे होने वाली प्रांतीय प्रतियोगता मे भाग लेगी। इस मौके पर शाखा के सदस्य अभियंता परस राम,जसविंदर जस्सी, ओपी वर्मा, राजिन्द्र जौड़ा,अश्वनी महाजन,अश्वनी शर्मा, सुमन महाजन,रामेश शर्मा,राज मोहन शर्मा, समाइल शर्मा,योगेश शर्मा, ध्यान सिंह, पुरुषोत्तम लाल, गुरप्रीत सिंह आदि मौजूद थे।