तरूण जैन, फिरोजपुर : इन दिनों बच्चे अपने खाली समय का सद्पयोग ऑनलाइन व सोशल साइट्स से शिक्षा हासिल कर ज्ञान में बढ़ोतरी कर रहे है। क‌र्फ्यू के कारण 14 अप्रैल तक स्कूल-कॉलेज बंद होने के कारण बच्चे अपने अध्यापकों की मदद से फेसबुक, जूम, स्काइप, ऑनलाइन लेक्चर, मोबाइल एप व अन्य सोशल प्लेटफार्म का इस्तेमाल करके शिक्षा हासिल कर रहे है। वहीं स्कूलों द्वारा भी बच्चों को ऑनलाइन शिक्षा प्रदान करने हेतू नोट्स भेजने के अलावा अन्य कार्य किए जा रहे है।

कक्षा छठी की एंजल रत्तरा ने बताया कि अपने खाली समय में वह विज्ञान, गणित, अंग्रेजी जैसे विषयों को पढ़कर ज्ञान में बढ़ोतरी कर रही है। कक्षा पहली की रूहानी व प्रैप-1 के कौशिक चानना का कहना है कि वह अपने अभिभावकों व अध्यापकों की मदद से घर पर बैठकर ही पढ़ाई कर रहे है। विद्यार्थियों के लिए स्कूल प्रबंधकों द्वारा साइंस, म्यूजिक, योग जैसे विषयों के ऑनलाइन वीडियों भेजे जा रहे है ताकि बच्चे उनसे शिक्षा हासिल कर सके।

वरिष्ठ अध्यापक अजय मित्तल ने बताया कि उनके द्वारा विद्यार्थियों को लाइव लेक्चर भेजे जा रहे है ताकि विद्यार्थी घर बैठकर शिक्षा हासिल कर सके। किताब विक्रेताओं द्वारा भी बच्चों के घरों में नए सेशन की पुस्तके होम डिलीवरी की जा रही है। राहुल छारिया ने बताया कि उनके पास नगर के प्रमुख स्कूलों की किताबे है और जो अभिभावक उनसे संपर्क कर रहा है, वह सीधे लोगों के घरों में किताबे पहुंचा रहे है।

वहीं, डीसीएम ग्रुप के डिप्टी हैड अकेडमिक्स योगिता पुरी व डिप्टी हैड एलिमेंट्री शहनाज ने बताया कि अप्रैल माह से क्लॉस टू होम प्रोजेक्ट के अंतर्गत बच्चों के लिए ऑनलाइन शिक्षा की व्यवस्था की गई है ताकि वह बिना किसी रोक के घर बैठकर अपनी पढ़ाई जारी रख सके।

डिप्टी सीईओ गुरदीप सिंह ने बताया कि बच्चों को ऑनलाइन शिक्षा मुहैया करने के लिए डीसीएम के सभी स्कूलों के प्रिसिपल तथा स्टॉफ सदस्य दिन-रात मेहनत कर रहे है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!