प्रदीप कुमार सिंह, फिरोजपुर

बहन तो खड़ गई बठिडा से। वो तो फिरोजपुर नहीं आऊंदी। फिरोजपुर जीजा को लाएं, तो कैसा रहेगा। गुरूहरसहाय शहर में शिअद नेता के घर पर हुई बैठक में वर्करों की मांग पर यह बात पूर्व मंत्री बिक्रमजीत सिंह मजीठिया ने कही है। मजीठिया ने कहा कि फिरोजपुर लोकसभा हलके के लोग शिअद-भाजपा गठबंधन के साथ हैं। कांग्रेस ने प्रदेश में अपने दो साल के कार्यकाल के दौरान प्रदेश के विकास के नाम पर लोगों को कुछ नहीं दिया है।

गौरतलब है कि शिअद से सांसद शेर सिंह घुबाया को निकाले जाने के बाद से लगातार शिअद वर्करों की ओर से बादल परिवार से ही फिरोजपुर लोकसभा सीट पर पार्टी से कैंडीडेट दिए जाने की मांग हो रही है। ऐसे में सोमवार देर शाम गुरूहरसहाय हलके के कदावर ेता वरदेव सिंह मान उर्फ नोनी मान के घर पर वर्करों की बैठक के दौरान पूर्व मंत्री मजीठिया से वर्करों ने मांग की है कि फिरोजपुर सीट से केंद्रीय मंत्री हरसिमरत बादल को चुनाव में उतारा जाए। इस मांग को सुनने के बाद मजीठिया ने कहा कि बहन तां खड़ गई बठिडा से..।

वर्करों से सुखबीर सिंह बादल को फिरोजपुर संसदीय सीट से कैंडीडेट बनाए जाने की बात पूछे जाने पर सभी वर्करों ने एकस्वर में कहा कि यह भी अच्छा रहेगा। मजीठिया द्वारा सुखबीर सिंह बादल को फिरोजपुर संसदीय सीट से प्रत्याशी बनाए जाने के संकेत दिए जाने के साथ ही वर्करों के अनुसार अब तो मात्र इस बारे में पार्टी द्वारा औपचारिक एलान भर बाकी रह गया है।

हालांकि, दैनिक जागरण द्वारा अपने 17 जनवरी के अंक में ही इस बात के संकेत दे दिए गए थे कि बादल परिवार अपनी फिरोजपुर पंरपरागत सीट बचाने के लिए जिन चार चेहरों में से एक को चुनाव मैदान में उतरने का प्रयास कर रहा है, उसमें सुखबीर सिंह बादल पहले नंबर पर और दूसरे नंबर पर केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल हैं। अब जबकि हरसिमरत कौर बादल द्वारा बठिडा से ही चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी गई है, तो उनकी फिरोजपुर सीट से चुनाव लड़ने की संभावना खत्म हो गई है।

पार्टी सूत्रों के मुताबिक पार्टी प्रधान के लिए फिरोजपुर सीट सबसे सुरक्षित है, क्योंकि सुखबीर सिंह बादल फिरोजपुर लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत पड़ती नौ विधानसभाओं में जलालाबाद विधानसभा से विधायक भी है। फिरोजपुर सीट पर पिछले पांच लोकसभा चुनावों से शिअद का कब्जा रहा है। ऐसी स्थित में इस सीट पर सुखबीर सिंह बादल यदि चुनाव लड़ते हैं तो उन्हें जीत के लिए ज्यादा जोर नहीं लगाना होगा। गत दिसंबर, जनवरी व फरवरी में सुखबीर सिंह बादल द्वारा फिरोजपुर लोकसभा हलके के विधानसभा क्षेत्रों में वर्करों की साथ बैठक व मुलाकात के दौरान भी कई बार स्वयं को फिरोजपुर से प्रत्याशी होने के संकेत दिए जा चुके है। अब जबकि औपचारिक घोषणा मात्र बाकी है, तो वर्करों में जोश देखा जा रहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!