संवाद सूत्र, फिरोजपुर : पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड की ओर से घोषित किए गए बारहवीं के परिणाम में फिरोजपुर का परिणाम 95.62 फीसदी रहा तो रहा लेकिन शिक्षा विभाग फिरोजपुर को टापर छात्रों का पता नहीं। जिला शिक्षा अधिकारी कुलविदर कौर ने कहा कि छात्रों के अंक उनकी परफार्मेस के आधार पर आए हैं। ऐसे में टापर निकालने के लिए सभी स्कूलों से डाटा लेना होगा।

डीएम जैन स्कूल, मानवता पब्लिक स्कूल, एमएलएम सीनियर सेकेंडरी स्कूल, डीसीएम जैन स्कूल का स्टाफ भी घोषित परिणामों के लेकर उलझा रहा। पंजाब स्कूल एजुकेशन बोर्ड के परिणाम आने के बाद जिला फिरोजपुर को शुक्रवार देर सांय परिणाम मिले। शनिवार तक शिक्षा विभाग के मुलाजिम जिले के टापर को ढूंढने में नाकाम रहे। कोरोना कारण कुछ स्कूल बंद हैं, जो दो अगस्त को खुलेंगे और शनिवार की छुट्टी टापर ढूंढने के आड़े आई। शिक्षा विभाग की माने को अब जिले के टापर छात्रों का सोमवार को पता चलेगा।

जिले में 9617 बच्चों ने परीक्षा दी थी और 9196 विद्यार्थी इस परीक्षा में उत्तीर्ण हुए है। जिला शिक्षा अधिकारी कुलविदर कौर ने बताया कि फिरोजपुर का बेहतर परिणाम अध्यापकों की सख्त मेहनत का नतीजा है, जिन्होंने कोरोना वायरस जैसी मुश्किल परिस्थितियों में भी विद्यार्थियो को आनलाइन पढ़ाया। डीईओ ने कहा कि सरकारी स्कूलों का स्तर पहले से काफी ऊपर गया है और सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियो ने इस परिणाम में बहुत ही ज्यादा शानदार प्रदर्शन किया है। परीक्षाएं ना होने पर भी दो फीसद कम रहा परिणाम संवाद सूत्र, फाजिल्का : सीबीएसई के बाद अब पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड ने भी 12वीं का नतीजा घोषित कर दिया है। भले ही कोरोना महामारी के चलते इस साल पेपर नहीं हुए। लेकिन 12वीं का नतीजा विद्यार्थियों की दसवीं, 11वीं व 12वीं कक्षा के सभी साल की परीक्षाओं को आधार बनाकर सेंटर बोर्ड आफ सेकेंडरी एजुकेशन (सीबीएससी) के पैटर्न अनुसार घोषित किया गया है। बात अगर इस साल के परीक्षा प्रतिशत की करें तो इस साल 91.06 प्रतिशत बच्चे पास हुए हैं, जबकि पिछले साल इससे ज्यादा यानि दो प्रतिशत अधिक बच्चे पास हुए थे।

कोरोना महामारी के कारण इस साल 12वीं की कक्षाएं कुछेक दिन ही लग पाई, जबकि पूरा साल बच्चों ने आनलाइन पढ़ाई की। लेकिन जब परीक्षा का समय निकट आया तो कोरोना के एक दम बड़े केसों के चलते आफलाइन परीक्षाएं रद्द कर दी गई, लेकिन बच्चों का वर्ष खराब ना हो इसके लिए परिणाम घोषित किया गया। इस साल जिला फाजिल्का के सरकारी स्कूलों के 11762 विद्यार्थियों ने वार्षिक परीक्षा दी और 10711 परीक्षार्थी सफल हुए। इस तरह जिले की पास प्रतिशतता 91.06 रही, जबकि साल 2019 में जहां 10361 बच्चों ने परीक्षा दी और उनमें से 8856 बच्चे पास हुए, जबकि पास प्रतिशत 85.47 रहा। वहीं इस साल 2020 में 10614 विद्यार्थियों ने बारहवीं की परीक्षा दी, जिसमें से 9882 बच्चे पास हुए हैं। वहीं जिले का प्रतिशत 93.10 प्रतिशत रहा है।

Edited By: Jagran