जागरण संवाददाता, फिरोजपुर : किसान मजदूर संघर्ष समिति पंजाब के नेतृत्व में पंजाब में सात जिलों सहित फिरोजपुर में बस्ती टैंकां वाली के पुल पर रेल ट्रैक पर बैठे किसानों मजदूरों का धरना आज नौंवे दिन जत्थेबंदियों ने स्थगित कर दिया है। रेल पटरियां खाली कर दी हैं। मुख्यमंत्री ने किसानों के साथ बैठक कर उनकी मांगो को एक सप्ताह में पूरा करने कर दिया आश्वासन।

किसानों मजदूरों के धरने को संबोधित करते हुए राज्य उपप्रधान जसबीर सिंह पिद्दी, जिला प्रधान इन्द्रजीत सिंह बाठ और धर्म सिंह सिद्धू ने कहा कि पिछले नौ दिनों से किसान रेल की पटरियों पर बैठे थे, लेकिन आज मुख्यमंत्री के साथ किसानों की बैठक में किसानों को विश्वास दिलाया गया कि एक सप्ताह के अंदर उनकी कुछ मांगे पूरी कर दी जाएंगी। पंजाब प्रधान सतनात सिंह पन्नू ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा उनकी कुछ मांगे मान ली गई है। जिसमें ओलावृष्टि से खराब हुई बासमती का मुआवजा 12000 से बढ़ाकर 17000 रुपये प्रति एकड़, तार पार की जमीनों वालों को मुआवजा गृह मंत्री से बात कर मसलो का हल किया जाएगा।

किसान नेताओं ने कहा कि पांच एकड़ तक के किसानों का सारा कर्ज माफ किया जाएगा, आबादकारों को पक्का मालिकाना हक देने पर सहमति बनी और 65 प्रतिशत कलेक्टर रेट को चार किस्तों में किसानों को दिए जाएंगें, आंदोलन के दौरान किसानों मजदूरों पर डाले गए केस रद किए जाएं और जो केस रेलवे द्वारा उन पर किए गए हैं उनको लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से बात कि जाएगी और केस रद करवाए जाएंगे, दिल्ली आंदोलन के दौरान शहीद हुए किसानों को सरकारी नौकरी व मुआवजा दिया जाएगा।

इस मौके पर उन्होंने कहा कि यह आंदोलन चार जनवरी तक स्थगित किया गया है और सरकार की नीयत देखी जाएगी। अगर इन सात दिनों में किसानों के मसले हल न किए गए तो फिर से रेलवे का चक्का जाम कर दिया जाएगा।

इस मौके हरफूल सिंह, बचित्तर सिंह, नरेंद्र पाल सिंह, रशपाल सिंह, गुरमेल सिंह, रनजीत सिंह, सुरजीत सिंह, सतनाम सिंह, अमनदीप सिंह, बलविद्र सिंह, बलराज सिंह, वीर सिंह,गुरनाम सिंह, जसविद्र सिंह,मेजर सिंह, खिलारा सिंह,साहिब सिंह के अलावा ओर भी उपस्थित थे। रेल विभाग भी आया हरकत में

वहीं दूसरी ओर किसानों द्वारा रेलवे ट्रैक खाली करते ही रेलवे विभाग भी हरकत में आया दिखा, जैसे ही किसानों ने अपना सामान रेलवे ट्रैक से हटाया गया तो रेलवे कर्मचारी रेलवे ट्रैक का मुआयना करना शुरु कर दिया और ट्रैक की साफ सफाई करने लगे। किसानों के धरना समाप्त करने के बाद बुधवार को भी फिरोजपुर मंडल की ट्रेनें नहीं चलाएंगे। लाइनों का फिजिकल वेरीफिकेशन होने के बाद ही रेल यातायात शुरू होगा। करो 149 ट्रेनें प्रभावित हुई थी। 59 ट्रेन पूरी तरह से रद्द की गई थी। डीआरएम सीमा शर्मा फिलहाल इस पर कोई टिप्पणी नहीं कर रही हैं।

Edited By: Jagran