जेएनएन, हुसैनीवाला (फिरोजपुर)। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने फिरोजपुर में भारत-पाक सीमा के पास सतलुज नदी पर जीर्णोद्धार किए हुसैनीवाला पुल का उद्घाटन किया। इस अवसर पर रक्षा मंत्री ने कहा कि सेना और सरकार देश की सुरक्षा के प्रति कटिबद्ध है। देश की सुरक्षा से किसी प्रकार का कोई समझौता नहीं किया जाएगा।

सीतारमण ने कहा, सरहदी क्षेत्र के लोग देश की आंख और कान हैं। स्थानीय लोग सेना को सूचनाएं देकर मदद करें और देश की रक्षा में भागीदार बनें। रक्षा मंत्री  ने कहा कि जिस जगह पुल बना है वह भी एतिहासिक जगह है। 1971 के युद्ध में भारतीय सेना ने पुल को तोड़कर पाकिस्तानी सेना को आगे बढ़ने से रोका था और देश को बचाया था।

पुल के जीर्णोद्धार से अंतरराष्ट्रीय सीमा के आसपास रह रहे 10 गांवों के लोगों को भी सुविधा होगी। पुल का निर्माण सेना के इंजीनियरों ने समय से पहले किया है। पुल निर्माण में 2.48 करोड़ रुपये की लागत आई है। इस पुल से भारी वाहन भी गुजर सकते हैं। इस अवसर पर बीआरओ के महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल हरपाल सिंह, सेना के कोर कमांडर दुष्यंत सिंह, खेल मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी, सांसद शेर सिंह घुबाया भी उपस्थित थे।

बस ध्यान रहे एक-एक इंच जमीन और बूंद-बूंद पानी की करनी है रक्षा

हुसैनीवाला में रक्षा मंत्री ने यह शहीदों का पवित्र स्थान है। इस स्थल का नाम शहीदों की कुर्बानी की बदौलत देश के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखा गया है। इसके बाद रक्षा मंत्री ने एक जवान से उसका अनुभव पूछा तो जवाब मिला 'मैडम हमें जो भी टॉस्क मिलता है, उसे समय पर पूरा करते हैं।' इस पर रक्षा मंत्री ने कहा- 'मुझे और देश को आप पर पूरा भरोसा है। बस एक बात का ध्यान रखना कि देश की एक-एक इंच जमीन और एक-एक बूंद पानी की रक्षा करनी है।'

सरहदी क्षेत्र के लोगों को मिलेगी सुविधाएं

रक्षा मंत्री ने कहा कि सरहदी क्षेत्र हुसैनीवाला के ग्रामीणों को हर तरह की सुविधाएं उपलब्ध करवाने के प्रति सरकार प्रतिबद्ध है ताकि उनका जीवन आरामदायक बन सके।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Kamlesh Bhatt