संवाद सूत्र, फाजिल्का : पिछले साल बारिश के कारण बर्बाद हुई फसलों के मुआवजे की मांग को लेकर किसानों ने बुधवार को हाईवे जाम करते हुए फ्लाईओवर पर धरना दिया था, जोकि रात तक जारी रहा। रात को किसान फ्लाईओवर पर सोए और सुबह भी धरने पर डट गए। वीरवार दोपहर फाजिल्का के एसडीएम अमित गुप्ता मौके पर पहुंचे और किसानों से बातचीत करके कुछ समय मांगा, जिस पर किसानों ने दोपहर दो बजे धरना समाप्त कर दिया।

इस मौके किसान नेता बूटा सिंह, निशान सिंह, बाजा सिंह आदि ने कहा कि पिछले साल अबोहर क्षेत्र के बल्लूआना विधानसभा के गांवों व जलालाबाद विधानसभा के ब्लाक अरनीवाला में नरमे की फसलें खराब हो गई थी, जिस पर कई मंत्रियों व अधिकारियों ने गांवों का दौरा किया और किसानों को तुरंत राहत देने का वादा किया था, जबकि अब एक साल से अधिक समय बीत गया है, लेकिन प्रभावित किसानों को ठोकरों के अलावा कुछ नहीं मिला। बार बार मांग पत्र सौंपकर और संघर्ष के रूप में धरना देकर भी जब बात न बनी तो संयुक्त किसान मोर्चा के नेतृत्व में हाईवे पर धरना देने के लिए मजबूर होना पड़ा। उधर, दोपहर करीब एक बजे फाजिल्का के एसडीएम मौके पर पहुंचे और किसानों को विश्वास दिलाया कि 30 सितंबर तक किसानों को उनकी फसलों का मुआवजा दिया जाएगा, जिस पर किसानों ने धरने को समाप्त कर दिया। इस मौके जगसीर सिंह, राज सिंह, जतिद्रपाल, बलविंदर सिंह, जगसीर सिंह, मोहन सिंह, हरबंस सिंह वैरड़, परमजीत सिंह, बलवीर सिंह, राजिंदर सिंह, रविद्र सिंह, दर्शन सिंह, परमजीत सिंह ढिल्लों, मनजिन्दर सिंह ढिल्लों, इकबाल सिंह व अन्य उपस्थित रहे। वाहन चालकों को मिली राहत

करीब 24 घंटे तक चले इस धरने के कारण श्री अमृतसर से अबोहर और राजस्थान की तरफ जाने वाले वाहन चालकों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। कई वाहन चालकों को फाजिल्का की समाधि निकट धरना समाप्त होने का इंतजार करना पड़ा। हालांकि बस चालक और दो पहिया वाहन चालक तो विभिन्न गांवों से होते हुए आते जाते रहे। लेकिन बड़े वाहनों को काफी परेशान होना पड़ा। दोपहर करीब दो बजे के बाद धरना समाप्त होने पर हाईवे फिर से बहाल हुआ और बड़े वाहनों ने सफर शुरू किया।

Edited By: Jagran