संवाद सूत्र, फिरोजपुर कैंट : सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के बाद देश के 62 कैंटोनमेंट बोर्ड में अवैध कब्जाधारियों व निर्माण करने वालों की वोट काटने का सिलसिला पूरा हो चुका है। वोट कटने से गुस्साएं पूर्व विधायक व पूर्व उपाध्यक्ष बाप-बेटे ने बोर्ड अधिकारियों पर जनता का हक छीनने के आरोप लगाएं है। अकाली दल के पूर्व विधायक जोगिन्द्र सिंह जिदू ने आरोप लगाया कि यहां पर 1836 के नियम आज तक चलते आ रहे हैं। बोर्ड के कुछ अधिकारी जनता को हक देने की बजाय उनके हक छीनने में सबसे आगे रहते है।

उन्होंने कहा कि आज तक यहां की लैंड को फ्री होल्ड करने के लिए लंबे समय से कोई कदम नहीं उठाया गया, जबकि कुछ लोग फीस सहित अपना शिकायत पत्र बोर्ड में कई सालों पहले ही जमा करवा चुके है, लेकिन बोर्ड अधिकारियों ने वोट काटने में जल्दी दिखाई। उन्होंने आरोप लगाया कि बिना किसी सर्वे के कुछ शातिर दिमाग अधिकारियों ने घर बैठकर ही वोटर सूचियों से लोगों के नाम काट दिएं जोकि सरेआम धक्का है। पार्षद सुनील गोयल शीला ने कहा कि उन्होंने बोर्ड अधिकारियों से पत्र व्यवहार करना शुरू कर दिया है और बोर्ड मीटिग में भी उन्होंने सबसे पहले यह मुद्दा उठाया था। उन्होंने कहा कि उन्होंने क्षेत्र के 8 पार्षदों के हस्ताक्षर करवाकर एक पत्र बोर्ड को दिया है। उन्होंने कहा कि इस बारे में वह नई वोट बनवाने के लिए घर-घर जाकर लोगों को जागरूक करेंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!