जागरण संवाददाता, फिरोजपुर : जिला हेडक्वार्टर और जिला इंप्लाइज यूनियन के दफ्तर के समक्ष दर्जा चार कर्मियों ने पीपे खड़का सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। जिला प्रधान राम प्रसाद और महासचिव प्रवीण कुमार के नेतृत्व में कर्मचारी डिप्टी कमिश्नर ऑफिस के सामने इकट्ठा हुए। उन्होंने कहा कि यदि सरकार ने उनकी मांगें नहीं मानीं तो बुरे नतीजे भुगतने पड़ेंगे। मांगों का हल करने के लिए मुख्यमंत्री ने कैबिनेट सब समिति का गठन किया था, लेकिन समिति ने न तो कच्चे मुलाजिमों को पक्का किया और न ही बाकी मांगों का कोई हल किया।

उनकी लटक रही मांगों ठेका मुलाजिमों को रेगुलर करना, आउटसोर्स मुलाजिमों को विभाग में लेना, छटे वेतन कमीशन की रिपोर्ट जारी करना और रिपोर्ट आने में हो रही देरी को दूर करना, अंतरिम सहायता देना शामिल है। इसके साथ डीए की किश्तें जारी करना, आंगनबाड़ी, आशा वर्कर और मिड-डे मील वर्कर को कम से कम मेहनताना देना, सुप्रीम कोर्ट का बराबर काम के लिए बराबर वेतन फैसला लागू करना, पुरानी पेंशन स्कीम बहाल करना आदि मांगें भी है। मुलाजिमों ने कहा कि संघर्ष 26 जनवरी, 2020 को भी जारी रहेगा। इस मौके प्रधान मनोहर लाल, पेंशनर यूनियन ओम प्रकाश, मलकीत सिंह, ओमकार, राज कुमार, गुरदेव सिंह, संतोष कुमारी, राजवंत कौर, अजीत गिल, राज कुमार, रामदास, अनूप सिंह, विल्सन, गुरदास, सुरिन्दर कौर, सुखविन्दर सिंह, मनिंदर जीत, भगवंत सिंह, गोल्डी घारू, कुलदीप, ओम प्रकाश, पिप्पल सिंह, राजपाल, राम दयाल, मोहन लाल, हरी राम, बूटा सिंह, सोनू पुरी, राजेश कुमार, लालजीत आदि उपस्थित रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!