संवाद सहयोगी, अबोहर : देहाती मजदूर यूनियन ने खाद्य आपूर्ति विभाग के कार्यालय के समक्ष धरना लगाकर सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इसके बाद एएफएसओ को मांगपत्र सौंपा।

सभा के प्रांतीय सदस्य कामरेड गुरमेज लाल गेजी, जग्गा सिंह खुईयां सरवर ने कहा कि पंजाब सरकार गरीब वर्ग कें लोगों से लगातार मजाक कर रही है। चुनाव में सरकार ने लोगों से आटा दाल के साथ सस्ते दामों पर चायपत्ती व अन्य खाद्य सामग्री देने का वादा किया था। सरकार सस्ती गेहूं भी गरीब लोगों को नहीं दे रही। उन्होंने बताया कि लोगों को पिछले करीब नो महीने से गेहू नहीं बांटा गया जिस कारण गरीब मजबूरन महंगे दामों पर गेहूं खरीदने को मजबूर हैं। उन्होंने कहा कि जांच के नाम पर अनेक जरूरतमंदों के कार्ड काट दिए गए। यूनियन नेताओं ने जरूरतमंदों के आटा दाल योजना के कार्ड बनाने व पेंशन राशि तीन हजार रुपये महीना करने की मांग की। इस मौके पर राम बिलास, सुभाष चंद्र, देवी लाल, लाल सिंह, पाला राम, कुलवंत किरती, अवतार सिंह, बलवंत सिंह, गोपाल सिंह, बीबी सोमा, रावी, जसविदर कौर, शांति मौजूद थे। एएफएसओ विकास बतरा ने कहा कि वर्ष में दो बार गेहूं बांटी जाती है। अप्रैल 2019 से लेकर सितंबर तक पहले चरण में बांटी जा चुकी है, जबकि दूसरे चरण की अक्टूबर 2019 से लेकर मार्च 2020 की गेहूं फरवरी के पहले सप्ताह में बांटी जाएगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!