जागरण संवाददाता, अबोहर : कानूनी सेवाएं अथारिटी व पंजाब पुलिस के सहयोग से महिलाओं के अधिकारों की सुरक्षा व रक्षा के लिए नगर थाना-1 के पुलिस सांझ केन्द्र की मीटिग हुई। इसमें लोक अदालत के सदस्य एवं सेवानिृवत्त एसडीएम बीएल सिक्का, जिला कानूनी सेवाएं अथारिटी के पैनल एडवोकेट देसराज कंबोज, वूमेन हेल्प डेस्क इंचार्ज सब इंस्पेक्टर गरीना रानी, सदस्य गगन चुघ, सदस्य, मनजीत सिंह, मदन लाल, परमिन्द्र सिंह व सिटी वन पुलिस सांझ केन्द्र के इंचार्ज गुरमीत सिंह ने भाग लिया।

सिक्का ने कहा कि देश के अलग-अलग हिस्सों में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराधों पर लगाम कसने के लिए केंद्र व पंजाब सरकार ने सभी थानों को महिला हेल्प डेस्क बनाए गए हैं। इसके अन्तर्गत एसएसपी हरजीत सिंह के निर्देशों पर थाने में अबोहर व बल्लुआना हल्के का सांझे तौर पर वूमेन हेल्प डेस्क स्थापित किया गया है। इसमें सब इंस्पेक्टर गरीना रानी के नेतृत्व में महिलाओं से संबंधित शिकायतों का निवारण किया जाएगा। एसआइ गरीना रानी ने कहा कि सरकार द्वारा पुलिस स्टेशनों में महिलाओं के अनुकूल माहौल बनाने के लिए महिला हेल्प डेस्क बनवाए गए हैं।

डेस्क पर महिला पुलिसकर्मी तैनात होगी

पुलिस स्टेशनों में महिलाओं के लिए एक अलग डेस्क बनाए जाने से यह फायदा होगा कि उनके लिए फास्ट ट्रायल शुरू किया जा सकेगा और शिकायत दर्ज न हो पाने वाले मामलों को भी हाशिए पर लाया जा सकता है। इस डेस्क पर मुख्य रूप से महिला पुलिसकर्मी ही तैनात की गई हैं, ताकि महिलाओं को अपनी समस्याएं बताने में कोई झिझक महसूस ना हो।

महिलाओं पर अत्याचार बड़ी समस्या : चुघ

एनजीओ के प्रतिदिनि गगन चुघ ने कहा कि समाज में महिलाओं पर हो रहे अत्याचार एक बहुत बड़ी समस्या है, जिसका निवारण के लिए ऐसे हेल्प डेस्क स्थापित करना बेहद अनिवार्य है। सामाजिक तौर पर हम महिलाओं को सेल्फ-डिफेंस के गुर सिखाएं, ताकि समय आने पर वे अपराधी का डट कर विरोध करें। पुलिस सांझ केन्द्र के इंचार्ज गुरमीत सिंह ने पंजाब पुलिस व पंजाब कानूनी सेवाएं अथारिटी के सदस्यों का आभार जताया।

जरूरत पढ़ने पर हेल्पलाइन नंबरों पर संपर्क करें

एडवोकेट देसराज कंबोज ने कहा कि महिलाओं के खिलाफ होने वाले संगीन जुर्म से देश दहल गया है। अपराधियों के मंसूबे बढ़ गए हैं और आखिरकार सरकार द्वारा वूमेन हेल्प डेस्क की स्थापना की गई है। कंबोज ने पोस्को 2012 कानून की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि आम लोग महिलाओं व बच्चों पर हो रहे अत्याचारों का डट कर विरोध करें। जरूरत पड़ने पर घबराने की बजाए चाइल्ड हेल्प लाइन 1098, वूमेन हेल्पलाइन 1091, पुलिस हेल्प लाईन 109, हेल्प लाइन 114 पर अपनी शिकायत दर्ज करवा सकते हैं। अगर इसके बावजूद कोई सुनवाई न हो तो टोल फ्री हेल्प लाइन नंबर 1968 पर संपर्क करें। ----

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!