मोहित गिल्होत्रा, फाजिल्का : जिले की अनाज मंडियों में पहले गेहूं की सीधी अदायगी को लेकर पोर्टल पर डाटा एंट्री, फिर खरीद प्रक्रिया और अब मंडियों में बारदाने की समस्या के बादल छंटे ही थे कि आसमान में छाए बादलों ने अन्नदाता को परेशान कर दिया। शुक्रवार दोपहर करीब एक बजे तेज बारिश के साथ तेज हवाएं भी चलने लगी, जिसके चलते आनन-फानन में किसानों ने गेहूं की फसल को ढकने का प्रयास किया, लेकिन मंडी में पर्याप्त मात्रा में तिरपालें ना होने के कारण कई ढेरियां भीग गई। हालांकि बारिश ज्यादा नहीं हुई, लेकिन अभी भी आसमान में बादल मंडरा रहे हैं, ऐसे में अगर बारिश होगी तो किसानों के लिए परेशानी बढ़ जाएगी।

जिले की अनाज मंडियों में खरीद प्रक्रिया तो 11 अप्रैल से शुरू हो चुकी है। लेकिन 13 अप्रैल तक किसानों का डाटा पोर्टल पर अपलोड ना होने के कारण किसानों की फसल की खरीद नहीं हुई, जबकि 14 अप्रैल को आढ़तियों की ओर से पोर्टल पर डाटा अपलोड करना शुरू कर दिया गया। इसके बाद खरीद प्रक्रिया तेज हुई और दो दिन के भीतर ही खरीद एजेंसियों ने मंडियों में पड़ा लगभग 47 प्रतिशत गेहूं खरीद लिया, लेकिन 15 अप्रैल तक मंडियों में से एक भी अनाज का दाना लिफ्ट नहीं हुआ, जिसके चलते शुक्रवार को बारदाने की समस्या का हल करते हुए गेहूं की लिफ्टिग शुरू की गई। इस दौरान पूरे दिन में 670 एमटी गेहूं की लिफ्टिग की गई, जबकि अभी भी 32754 एमटी गेहूं की लिफ्टिग होना बाकी है। लेकिन । बारिश के चलते जो ढेरियां बिकने ही वाली थी, उन्हें अब संबंधित एजेंसियां नमी की जांच करने के बाद खरीद करेंगी। पंज दिनां बाद आई वारी, हुन फेर होना पवेगा परेशान

फाजिल्का की अनाज मंडी में तिरपाल से गेहूं को बचा रहे गांव जंडवाला खरता के किसान करतार सिंह ने बताया कि वह पिछले पांच दिनों से मंडी में बैठा है। शुक्रवार को जब खरीद एजेंसियों ढेरी देखने के लिए आने वाली थी, तो बारिश ने उनको ओर परेशानी में डाल दिया। करतार सिंह ने कहा कि हुन फेर ओहनू परेशान होना पवेगा।

मंडियों में हुई 69269 एमटी गेहूं की आमद

डीसी अरविदपाल संधू ने कहा कि किसानों को अदायगी जल्द ही की जाएगी और किसी तरह की कोई मुश्किल नहीं आने दी जाएगी। उन्होंने बताया कि अब तक जिले की मंडियों में 69269 मीट्रिक टन गेहूं की आमद हुई है और 32318 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद की जा चुकी है। अब तक पनग्रेन की तरफ से 10730 मीट्रिक टन, मार्कफैड की ओर से 11160 मीट्रिक टन, पनसप ने 13075 मीट्रिक टन, पंजाब स्टेट वेयर हाऊस निगम ने 4914 मीट्रिक टन, एफसीआइ ने 1908 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद की गई है। जबकि खरीदी गई गेहूं में से 670 एमटी गेहूं की लिफ्टिग की गई है।

अबोहर की मंडियों में भीगा गेहूं, किसानों की बढ़ी परेशानी संवाद सहयोगी, अबोहर : बदले मौसम के मिजाज ने किसानों को चिता में डाल दिया है। शुक्रवार बाद दोपहर अबोहर के कई गांवों में बारिश हुई है, जिससे गेहूं की कटाई में भी देही होगी। उधर, मंडियों में खुले आसमान के नीचे पड़ी गेहूं की फसल भीगने से अब किसानों को गेहूं की बिक्री के लिए दो से तीन दिन का इंतजार करना पड़ेगा।

ढाणी बल्लुआना निवासी किसान नरेश कंबोज ने बताया कि शुक्रवार दोपहर बाद उनकी ढाणी व आसपास के गांवों में काफी बारिश हुई है, बारिश के बाद अब दो तीन कटाई नहीं हो पाएगी। उधर, अबोहर की मुख्य मंडी के अलावा आसपास के गांवों की मंडियों में भी बारिश के कारण खुले में पड़ी गेहूं की फसल भीग गई है, जिसकी बिक्री के लिए अब किसानों को दो तीन गेहूं के सुखने का इंतजार करना पड़ेगा। गुमजाल मंडी के किसानों ने बताया मंडी कच्ची होने के कारण बारिश के कारण गेहूं भीग गई है, जबकि मंडियों में तरपाल वगैरह का पूरा प्रबंध नहीं है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप