संवाद सूत्र, फाजिल्का : कोविड प्रबंधन संबंधी एक जिला स्तरीय बैठक की अध्यक्षता करते डिप्टी कमिश्नर अरविद पाल सिंह संधू ने बताया कि जिले में तीन लाख पांच हजार लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग को टीकाकरण तेजी के साथ करने के साथ-साथ कोविड के संभावी खतरे का पता लगाने के लिए लगातार सैंपलों की जांच करते रहने की हिदायत की।

डिप्टी कमिश्नर ने विभाग को कहा कि अध्यापकों की वैक्सीनेशन पहल के आधार पर हो और सरकारी कर्मचारी भी अपनी वैक्सीनेशन पूरा करवाएं। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग को कहा कि वह संबंधित हलके के एसडीएम के साथ संपर्क करके टीकाकरण के लिए अधिक से अधिक कैंप आयोजित करें। डिप्टी कमिश्नर ने बताया कि जिले में इस समय पर कोविड के सिर्फ नौ मरीज हैं जोकि सभी ही अपने घरों में रहकर इलाज करवा रहे हैं। उन्होंने जिला निवासियों से अपील की कि लोग बिना डर व झिझक वैक्सीन का टीका लगवाएं और यदि कोविड के लक्षण दिखाई दें तो तुरंत सरकारी अस्पताल से कोविड का टैस्ट करवाया जाए। इस मौके एडीसी (डी) सागर सेतिया ने बताया कि फाजिल्का जिले के अबोहर में स्थापित सरकारी अस्पताल में आक्सीजन प्लांट पहले ही शुरू हो गया है, जबकि जलालाबाद और फाजिल्का में आक्सीजन प्लांट का सामान आ गया है और यह एक सप्ताह में शुरू हो जाएगा। डिप्टी डीईओ अंजू सेठी ने बताया कि जिले के 97 प्रतिशत अध्यापकों की वैक्सीनेशन हो चुकी है। डा. कविता ने बताया कि बच्चे को दूध पिलाने वाली माताएं भी कोविड वैक्सीन का टीका लगवा सकतीं हैं। इस मौके एसडीएम रविंद्र सिंह अरोड़ा, अमित गुप्ता, सहायक कमिशन कंवरजीत सिंह, डा. एरिक व अन्य उपस्थित थे।

Edited By: Jagran