संस, अबोहर : शहीद मेजर सुरेंद्र प्रसाद के बलिदान दिवस पर यूथ कांग्रेस द्वारा द्वारा श्रद्धांजलि दी गई। इस मौके पर यूथ कांग्रेस के प्रधान अतिदरपाल सिंह ने कहा कि मेजर सुरेंद्र प्रसाद ने खेमकरन सेक्टर में शहादत पाई थी। उन्होंने कहा कि वर्ष 1965 के भारत-पाक युद्ध में खेमकरण सेक्टर में गांव गट्टी जैमल सिंह के नजदीक पाकिस्तानी सेना के कब्जे से भारतीय भूमि मुक्त करवाने के लिए हुए संघर्ष में अबोहर के महान शूरवीर मेजर सुरेंद्र प्रसाद ने अपने प्राणों की आहूति देकर पूरे क्षेत्र का नाम रोशन किया था।

उन्होंने कहा कि हमें अपने शहीदों को कभी भुलाना नहीं चाहिए। शहीदों की बदौलत ही हम आजादी की सांस ले रहे हैं। इस मौके पर मोहनलाल ठठई, पार्षद पुनीत अरोड़ा, अनिल सेवटा, राजन सिंह, लोकेश शर्मा, कमल खुराना, विकास सिगला, सुरजीत सिंह, अमन अ•ाीमगढ़, शरणप्रीत सिंह, राजेश कुमार, गौरव नारंग, मानक शाह, मनोज, मानित शर्मा, मोनू आर्य, सन्नी, प्रिस, ललित शर्मा, अमित गोदारा मौजूद थे। शहीद को किया नमन संस, अबोहर : वर्ष 1965 के भारत-पाक युद्ध के दौरान मात्र 27 वर्ष की आयु में शहीद हुए मेजर सुरेंद्र प्रसाद के बलिदान दिवस पर पंजाबी सभ्याचार मंच की ओर से श्रद्धांजलि भेंट की गई। इस मौके पर व्यक्ताओं ने कहा कि मेजर सुरेंद्र प्रसाद ने खेमकरन सेक्टर में शहादत पाई थी।

उन्होंने कहा कि वर्ष 1965 के भारत-पाक युद्ध में खेमकरण सैक्टर में गांव गट्टी जैमल सिंह के नजदीक पाकिस्तानी सेना के कब्जे से भारतीय भूमि मुक्त करवाने के लिए हुए संघर्ष में अबोहर के महान शूरवीर मेजर सुरेंद्र प्रसाद ने अपने प्राणों की आहुति देकर पूरे क्षेत्र का नाम रोशन किया था। उन्होंने कहा कि शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले, वतन पर मरने वालों का यही बाकी निशां होगा। हमें अपने शहीदों को कभी भुलाना नहीं चाहिए। शहीदों की बदौलत ही हम आजादी की सांस ले रहे हैं। इस मौके पर गुरचरण सिंह, कुलजीत सिंह आहूजा, गंगाधर बांसल, रविकांत गुप्ता लीगल, रमेश कुमार मिढ़ा, रमेश कुमार जग्गा व पार्षद पुनीत अरोड़ा मौजूद थे।

Edited By: Jagran