संवाद सूत्र, फाजिल्का : पंजाब सरकार की ओर से दिए गए छठे पे कमीशन से नाखुश जिले के समूह विभागों के दफ्तरी कर्मचारियों ने पीएसएमयू की प्रांतीय बाडी के आह्वान पर दफ्तरों का काम काज बंद रखा, वहीं हड़ताल के कारण सर्टिफिकेट, लाइसेंस व अन्य कार्य प्रभावित रहे। लोगों का कहना था कि कुछ दिन पहले दो सप्ताह तक कर्मचारियों ने हड़ताल रखी, जो अभी बहाल ही हुई थी कि फिर से हड़ताल शुरू कर दी गई है।

उधर, पीएसएमयू के जिला प्रधान फकीर चंद व अंकुर शर्मा ने बताया कि कलमछोड़ हड़ताल में डीसी दफ्तर, उप मंडल मजिस्ट्रेट दफ्तर, तहसीलदार दफ्तर, वाटर सप्लाई, नहरी विभाग, डीपीआरओ दफ्तर, को-आपरेटिव सोसायटी, रोजगार विभाग, शिक्षा विभाग, फूड सप्लाई के दफ्तरी कर्मचारियों ने हिस्सा लिया। यूनियन के पदाधिकारियों ने बताया कि पंजाब सरकार का व्यवहार अपने कर्मचारियों के प्रति बुरा है। सरकार पे कमीशन के नाम पर करोड़ों रुपए कर्मचारियों को देने की घोषणा कर वाहवाही बटोर रही है, लेकिन सच्चाई यह है कि पंजाब सरकार ने पे कमीशन में कर्मचारियों को कुछ नहीं दिया। बल्कि उनका वेतन घटाने की कोशिश की है, जो किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने पंजाब सरकार को चेतावनी देते कहा कि वेतन कमीशन की रिपोर्ट को रिवाइज करवाने, पुरानी पेंशन स्कीम बहाल करने और लंबे समय से लटक रही अन्य मांगें पूरी होने तक यह संघर्ष इसी तरह से जारी रहेगी। उन्होंने बताया कि 27 जून तक कलमछोड़ हड़ताल जारी रखने का यूनियन की प्रांतीय बाडी द्वारा फैसला लिया गया है। इस मौके प्रवीन कुमार सचिव, हरभजन सिंह खुंगर जिला सरंक्षक, जगजीत सिंह प्रधान डीसी दफ्तर यूनियन, रोहित सेतिया, गौरव सेतिया पवन कुमार, मोहन लाल, राहुल कुमार, मतिंदर सिंह, अमरजीत सिंह, अंकित कुमार अमृतपाल कौर, अजय कम्बोज, संदीप कुमार, सुरिदर पाल सिंह, सुखदेव चंद, सरबजीत कौर व अन्य कर्मचारी उपस्थित रहे।

Edited By: Jagran