संवाद सहयोगी, अबोहर: पंजाब रोडवेज, पनबस व पीआरटीसी कांट्रेक्ट वर्कर्ज यूनियन पंजाब के आह्वान पर कर्मचारियों ने शुक्रवार सुबह दो घंट बस स्टैंड बंद रखकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।

इस मौके पर फिरोजपुर डिपो के उपप्रधान बलेदव सिंह, मेहर सिंह ने कहा कि वर्तमान में सरकारी बसों की संख्या मात्र 250 के करीब है। उन्होंने बताया कि नए बने मुख्यमंत्री ने भी कर्मियों के हड़ताल के अल्टीमेटम के बावजूद कोई बैठक नहीं बुलाई। उन्होने कहा कि यूनियन अपनी मांगें सरकार तक पहुंचाने के लिए 27 सितंबर के किसानी संघर्ष की हिमायत करेगी और 28 सितंबर को शहीद भगत सिंह जी का जन्मदिवस जिला स्तर पर मनाने के बाद वर्करों को लामबंद करने के लिए छह अक्टूबर को गेट रैलियां की जाएगीं। इसके बाद 11 से 13 अक्टूबर तक तीन दिवसीय हडताल की जाएगी व इसके बाद अगर उनकी बात नहीं सुनी गई तो मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी की रिहायश का घेराव किया जाएगा। इस मौके पर फिरोजपुर डिपो के उपप्रधान बलेदव सिंह, मेहर सिंह तथा स्वर्ण सिंह, सतिदपाल, अमृत सिंह, दलगीर सिंह महंत, शंटी सिंह, इकबाल सिंह आदि मौजूद थे।

---

रोडवेज में सफर करने के लिए महिलाओं को करना पड़ा इंतजार

उधर, रोडवेज कर्मियों द्वारा दो घंटे बस अड्डा बंद रखने के कारण प्राइवेट बस चालकों ने अपनी अपनी बसें बस स्टेंड के बाहर लगा ली, जिस कारण ट्रैफिक बाधित होने के कारण दूसरे वाहन चालकों व लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। इसके अलावा रोडवेज बसों का पहिया दो घंटे तक जाम रहने के कारण महिलाओं को परेशानी का सामना करना पड़ा।

Edited By: Jagran