संवाद सूत्र, फाजिल्का : पंजाब स्टेट मिनिस्टिीरियल सर्विस यूनियन प्रांत कमेटी के आह्वान पर पंजाब भर के कार्यालयों के कर्मचारियों द्वारा सातवें दिन भी हड़ताल रखकर रोष प्रदर्शन किया गया। इस दौरान खजाना विभाग, लोक निर्माण विभाग, बागबानी विभाग, सिविल सर्जन कार्यालय, डीसी दफ्तर, एसडीएम दफ्तर, कर व आबकारी विभाग, पशु पालन विभाग, जन सेहत विभाग, वाटर सप्लाई सैनिटेशन, कृषि विभाग, इरीगेशन विभाग, जिला रोजगार दफ्तर, भलाई विभाग आदि के कर्मचायिों द्वारा हड़ताल के दौरान कामकाज ठप रखा गया।

जिला प्रशासनिक कांप्लेक्स में डीसी कार्यालय यूनियन के प्रधान जगजीत सिंह, गौरव सेतिया, सचिव सुखदेव चंद, सुखचैन सिंह के नेतृत्व में कर्मचारियों द्वारा पंजाब सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। उन्होंने कहा कि सरकार के अड़ियल रवैये के खिलाफ लंबा संघर्ष करने के लिए कर्मचारी पूरी तरह से तैयार हैं। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से बार-बार उनकी मांगों के संबंध में बैठकें रखकर रद कर दिया गया। यूनियन ने फैसला किया कि इस हड़ताल को अनिश्चितकालीन करने की तैयारी के लिए जल्द ही प्रदेश स्तरीय मीटिग की जाएगी। उधर, कर्मचारियों की हड़ताल के चलते लोगों के कार्य न होने के कारण उन्हें काफी परेशान होना पड़ रहा है। वहीं रजिस्ट्रियों, सर्टिफिकेट, लाइसेंस आदि का कार्य भी प्रभावित है, जिससे अर्जिनवीस व टाइपिस्ट भी परेशान हैं। इस मौके राजन, जसविन्दर कौर, वीना रानी, राबिया, नवनीत कौर, प्रदीप गक्खड़, प्रदीप शर्मा, राम रत्न, अंकुर शर्मा, रोहित सेतिया, राकेश, जगमीत सिंह, अमरजीत सिंह, सुमित, गौरव बत्रा, सुनील ग्रोवर, साहिल, अशोक, दीपक अन्य कर्मचारी उपस्थित थे। एनएचएम कर्मचारियों ने किया प्रदर्शन संवाद सूत्र, फाजिल्का : पंजाब के ठेका आधारित व आउटसोर्स कर्मचारियों को रेगुलर करने संबंधी एनएचएम इंप्लाइज यूनियन पंजाब द्वारा राज्य स्तरीय हड़ताल में जिला फाजिल्का के समूह स्वास्थ्य विभाग के एनएचएम के अधीन कांट्रैक्ट और आउटसोर्स कर्मचारियों ने भाग लिया।

इस मौके यूनियन के अध्यक्ष गुरप्रीत भुल्लर ने कहा कि राज्य सरकार स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों को कोरोना योद्धाओं का खिताब तो दे रही है। लेकिन इनको रेगुलर न करके इन के साथ मजाक भी कर रही है। इस कारण आज एक दिवसीय सांकेतिक हड़ताल समूह एनएचएम और आउटसोर्स पर काम कर रहे कर्मचारियों द्वारा की गई है। उन्होंने कहा कि एनएचएम अधीन काम करते समूह कर्मचारियों सहित आउटसोर्स कर्मचारियों को पंजाब सरकार द्वारा स्वास्थ्य विभाग पंजाब में रेगुलर किया जाए और स्वास्थ्य विभाग अधीन काम कर रही आशा फैसिलिटेटरों और आशा वर्करों को हरियाणा राज्य की तर्ज पर फिक्स वेतन दिया जाए, जिससे कर्मचारियों का मनोबल कायम रह सके और अपने परिवार का गुजारा अच्छी तरह कर सकें और मानसिक और आर्थिक परेशानी से बाहर आ सके । इस मौके यूनियन के नेता रविंद्र कुमार ने कहा कि यदि सरकार इन कर्मचारियों को रेगुलर करने का नोटिफिकेशन जारी नहीं करती तो आने वाले समय में सरकार के खिलाफ सख्त संघर्ष किया जाएगा। इस मौके डा. आमना कंबोज, जसपिदर कौर, अतिदरपाल सिंह, पारस वधवा, सुखदेव सिंह, श्वेता और अन्य कर्मचारी भी उपस्थित थे।

Edited By: Jagran