संवाद सहयोगी, जलालाबाद : जलालाबाद उपचुनाव में कांग्रेस की मुश्किलें कम नहीं हो रही। तीन दिन पहले कांग्रेस की तरफ से उपचुनाव के लिए रमिद्र आवला को उम्मीदवार चुने जाने पर प्रांतीय यूथ कांग्रेस के महासचिव पद पर तैनात गोल्डी कंबोज ने इस्तीफा दे दिया था।शुक्रवार को उन्होंने वर्करों के साथ बैठक करके आजाद उम्मीदवार के रूप में अपना नामांकन पत्र दाखिल कर दिया है।

नामांकन पत्र भरने से पहले गोल्डी कंबोज ने जलालाबाद के हरकृष्ण रिजोर्ट में अपने समर्थकों के साथ एक विशाल बैठक की। इस दौरान समर्थकों ने गोल्डी कंबोज से आजाद उम्मीदवार के रूप में नामांकन भरने के लिए कहा। इस मौके गोल्डी कंबोज ने कहा कि वह पिछले 12 सालों से अपने हलके के लोगों के लिए लड़ाई लड़ रहे हैं व इसमें कई बार उनको बड़ी बड़ी मुश्किलों को सामना भी करना पड़ा। लेकिन उन्होंने अपने परिवार को पीछे रखकर हमेशा अपने समर्थकों का साथ दिया व कांग्रेस पार्टी को इस मुकाम तक पहुंचाया। लेकिन कांग्रेस पार्टी ने उनसे धोखा किया और किसी बाहरी उम्मीदवार को टिकट थमा दी। जोकि वह किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि जलालाबाद उपचुनाव के लिए जो पैनल बनाकर हाईकमान को भेजा गया, उसमें जलालाबाद के किसी भी उम्मीदवार का नाम तक शामिल नहीं था। उन्होंने कहा कि इससे पहले 2017 में भी कांग्रेस ने बाहर से उम्मीदवार को खड़ा किया, जिस कारण यहां कांग्रेस तीसरे नंबर पर रही। लेकिन अब जब उन्होंने कांग्रेस पार्टी को नीतियों को घर-घर पहुंचा नया जोश भरा, तो एक बार फिर से टिकट बाहरी उम्मीदवार को दे दी गई। इस मौके उन्होंने कि अगर 1 अक्टूबर तक कांग्रेस पार्टी की तरफ से उम्मीदवार न बदला गया तो वह आजाद उम्मीदवार के रूप में ही चुनाव लड़ेंगे। इस दौरान उनके साथ भारी संख्या में उनके समर्थक मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!