संवाद सहयोगी, फाजिल्का : गांव कटैहड़ा के किसानों ने कटैहड़ा माइनर में गैर कानूनी ढंग से ¨सचाई के पानी लेने के लिए लगाए मोघे के विरोध में किसानों ने नहर के किनारे पर धरना लगाकर रोष प्रदर्शन किया। इसके बाद डीसी ईशा कालिया को ज्ञापन सौंपा गया। किसान प्रह्लाद कुमार व इंद्राज ने बताया कि 1998 में सरकार की ओर से अरनीवाला माइनर को कटैहड़ा माइनर में तबदील करने का फैसला लिया। माइनर बनने के बाद नहरी विभाग की ओर से आरजी तौर पर बनाए गए मोघे बंद कर दिए गए। इसके बाद से कुछ किसान प्रशासन व नहरी विभाग पर दबाव बनाकर नहर में मौघे बनाकर पानी का प्रयोग कर रहे हैं। गांव कटैहड़ा के दर्जनों किसानों ने फाजिल्का की डीसी ईशा कालिया को ज्ञापन देकर मांग की है कि विभाग को बिना बताए बनाए अवैध मोघे बंद किए जाएं। किसानों ने बताया उनकी माइनर का निर्माण कार्य 30 प्रतिशत बकाया है जो जल्द पूरा किया जाए। ¨सचाई के लिए पहले ही पानी पूरा नहीं आ रहा, इसलिए अवैध रूप से बने मोघे बंद किए जाएं नहीं तो किसान अदालत का द्वार खटखटाएंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!