संवाद सहयोगी, अबोहर : ढाणी ओम प्रकाश में बुधवार रात दो हजार रुपये न देने पर हैवान बने एक पति ने पत्नी को कुल्हाड़ी से काटकर मौत के घाट उतार दिया। इस दौरान महिला के तीन बच्चे भी चीखते चिल्लाते रहे और पिता से मां को न मारने की गुहार लगाते रहे, लेकिन आरोपित ने उनकी भी न सुनी और पत्नी की हत्या कर फरार हो गया। इतना ही नहीं आरोपित ने बीच-बचाव में आए अपने साले को भी कुल्हाड़ी से वार कर घायल कर दिया। सदर थाना पुलिस ने आरोपित पर हत्या का मामला दर्ज किया है, जबकि आरोपित फरार है।

मूलरूप से अमृतपुर, कैथावा, औरेया उत्तर प्रदेश निवासी 30 वर्षीय रमां देवी पत्नी बिल्लू अबोहर की ढाणी ओम प्रकाश में नरमे की चुगाई के

लिए अपने बच्चों व भाइयों के साथ करीब एक महीने पहले आए थे, जबकि मृतका का पति एक सप्ताह पहले ही अबोहर आया था। मृतका के भाई हरीश व बबलू ने बताया कि बुधवार को वह दोनों भाई खेत में काम कर रहे थे, जबकि उसका भाई पप्पू घर में ही था और उसकी बहन रमां देवी शाम को कपड़े धो रही थी। इस दौरान रमा का पति बिल्लू घर पर आया व अपनी पत्नी से दो हजार रुपये मांगने लगा, जिस पर रमा ने कहा कि अब तो उसके पास पैसे नहीं है। कल उसे जमींदार से पैसे लाकर दे देगी। बस इतने में बिल्लू तैश में आ गया व ईंट से उसके सिर पर वार कर दिया। इस दौरान उसका भाई पप्पू बीच में आया तो बिल्लू ने अंदर से कुल्हाड़ी उठा ली व पहले पप्पू पर कई वार कर उसे गंभीर घायल कर दिया। इसके बाद कुल्हाड़ी से अपनी पत्नी रमां की हत्या कर दी। इस दौरान उसके तीन बच्चे बड़ी बेटी 10 वर्षीय निधी, सात वर्षीय अनु व एक पांच साल का बेटा काकू अपने पिता को अपनी मां को न मारने के लिए चीखते चिल्लाते रहे लेकिन उसने अपने बच्चों पर भी जरा तरस नहीं किया व पत्नी को मरा हुआ समझ वहां से अपना बैग उठाकर फरार हो गया। इसके बाद रमा व उसके भाई को सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया, जहां से दोनों को रेफर कर दिया गया, जहां देर रात को रमा देवी की मौत हो गई। थाना सीतो चौकी इंचार्ज एएसआइ दविदर सिंह ने मामले की जांच शुरू कर दी है। पति-पत्नी में रहता था झगड़ा

सदर थाना प्रभारी गुरविदर सिंह ने बताया कि मृतका के भाई के बयानों पर उसके पति के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि हत्या का मूल कारण यह है कि दोनों पति-पत्नी का घरेलू कलेश रहता था। भाई के सिर पर लगे दर्जनों टांके

10 वर्षीय निधी ने बताया कि उसने सबकुछ अपनी आंखों से देखा कि किस तरह उसके पिता उसकी माता को कुल्हाड़ी से काट रहे थे। उसने कई बार अपने पिता को रोका लेकिन उसने एक न सुनी। इतना ही जब उसका मामा पप्पू बीच बचाव करने के लिए आया तो उसने उसको बुरी तरह से काट दिया, जबकि बुरी तरह से घायल पप्पू के सिर पर दर्जनों टांके लगे हैं।

Edited By: Jagran