संवाद सूत्र, फाजिल्का : भारतीय किसान यूनियन सिद्धूपुर की ओर से खराब फसलों के मुआवजे को लेकर दिया जा रहा धरना आखिरकार 22 दिन बाद जिला प्रशासन के आश्वासन के साथ स्थगित किया गया। इससे पहले भाकियू सिद्धूपुर के प्रांतीय प्रधान जगजीत सिंह ढल्लेवाल ने जिला प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक की। इस दौरान फाजिल्का के अलावा विभिन्न जिलों से किसान फाजिल्का के नए आधुनिक बस स्टैंड के भीतर एकत्रित हुए और मुआवजे की मांग की।

प्रांतीय अध्यक्ष जगजीत सिंह डल्लेवाल ने कहा कि फाजिल्का में कुछ महीने पहले भारी बारिश के साथ ओलावृष्टि से फसलों का बहुत बड़े स्तर पर नुकसान हुआ था, जिस पर सरकार ने तुरंत जिला प्रशासन को खराब फसलों के मुआवजे के लिए कार्रवाई करने के आदेश दिए थे और ऐलान किया था कि 17000 रुपये प्रति एकड़ के हिसाब के साथ मुआवजा दिया जाएगा, लेकिन बार बार मांग करने के बावजूद किसानों को अभी तक मुआवजा नहीं दिया गया। उन्होंने बताया कि कई बार फाजिल्का में धरने प्रदर्शन किए गए, लेकिन प्रशासन से केवल आश्वासन ही मिला, जिसके चलते 20 दिसंबर को डीसी कार्यालय के भीतर पक्का मोर्चा लगा दिया गया। उन्होंने बताया कि 11 जनवरी को पंजाब भर के किसान फाजिल्का में पहुंचे। इस मौके जिला प्रशासन से मुलाकात के दौरान डीसी ने आश्वासन दिया कि मौजूदा समय में चुनाव आचार संहिता लागू है। इसलिए चुनाव आचार संहिता खत्म होने के बाद मुआवजे को लेकर कार्य शुरू किया जाएगा। इस मौके जिलाध्यक्ष प्रगट सिंह ने कहा कि प्रशासन ने आश्वासन दिया है कि 20 फरवरी तक उनकी समस्या का हल किया जाएगा, जिसके चलते फिलहाल धरने को स्थगित कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि अगर इसके बाद भी उन्हें मुआवजा नहीं मिला, तो संघर्ष को तेज किया जाएगा।

Edited By: Jagran