संवाद सूत्र, फाजिल्का : पंजाब में बीते कुछ महीनों में हुई भारी बारिश व ओलावृष्टि के कारण खराब हुई फसलों के मुआवजे की मांग को लेकर भारतीय किसान यूनियन एकता सिद्धूपुर द्वारा डीसी कार्यालय के समक्ष धरना 16वें दिन भी जारी रहा। उधर, बारिश के चलते रात को भी किसान धरने पर डटे रहे और सुबह भी काफी संख्या में किसान डीसी परिसर में पहुंचे।

इस मौके भारतीय किसान यूनियन एकता सिद्धूपुर के जिलाध्यक्ष प्रगट सिंह ने बताया कि कुछ महीने पहले पंजाब में भारी बारिश के साथ ओलावृष्टि हुई थी, जिस कारण फसलों का बहुत बड़े स्तर पर नुकसान हुआ था। सरकार की ओर से 17000 रुपए प्रति एकड़ के हिसाब के साथ मुआवजा देने का ऐलान किया था, लेकिन अभी तक किसानों को यह मुआवजा नहीं दिया गया। उन्होंने कहा कि प्रांत में चन्नी सरकार किसानों के हुए नुकसान के मुआवजे देने के झूठे प्रचार कर रही है, जबकि किसानों को अभी तक कोई मुआवजा नहीं दिया गया। उन्होंने कहा कि प्रांत सरकार द्वारा किसानों मांगे पूरी किए जाने तक उनका धरना इसी तरह से जारी रहेगा। इस मौके सुखवीर सिंह, बचन सिंह, जसविद्र सिंह, लखविद्र सिंह व अन्य उपस्थित रहे।

---

भाकियू उग्राहां का धरना हुआ खत्म

भारतीय किसान यूनियन सिद्धूपुर के साथ ही 20 दिसंबर को अपनी मांगों को लेकर धरना लगाने वाली भारतीय किसान यूनियन एकता उग्राहां द्वारा अपना धरना समाप्त कर दिया गया है। यह धरना सरकार के आश्वासन के बाद खत्म किया गया है। सरकार के साथ यूनियन की बैठक सात जनवरी को होगी, जिसके बाद यूनियन की बैठक 10 जनवरी को होगी। इश उपरांत आगे के संघर्ष की रूपरेखा बनाई जाएगी।

Edited By: Jagran