संवाद सूत्र, फाजिल्का : भारतीय किसान यूनियन एकता सिद्धूपुर द्वारा बारिश व ओलावृष्टि के चलते खराब हुई नरमे और धान की फसल के मुआवजे को लेकर डीसी परिसर के भीतर धरना 11वें दिन भी जारी रहा। इस दौरान किसानों ने मांगों को लेकर सरकार व प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

इस मौके यूनियन के जिलाध्यक्ष प्रगट सिंह ने बताया कि कुछ महीने पहले पंजाब में भारी बारिश के साथ ओलावृष्टि हुई थी जिस कारण फसलों का बहुत बड़े स्तर पर नुकसान हुआ था। सरकार द्वारा 17000 रुपये प्रति एकड़ के हिसाब के साथ मुआवजा देने का एलान किया था, लेकिन अभी तक किसानों को यह मुआवजा नहीं दिया गया। उन्होंने कहा कि प्रांत में चन्नी सरकार किसानों के हुए नुकसान के मुआवजे देने के झूठे प्रचार कर रही है। जबकि किसानों को अभी तक कोई मुआवजा नहीं दिया गया। उन्होंने कहा कि वह किसानी मांगों को लेकर 20 दिसंबर से धरने पर बैठे हैं, लेकिन तो जिला प्रशासन ने उनकी सार ली और ना ही सरकार ने। जिस कारण किसानों में रोष बढ़ता जा रहा है। उन्होंने कहा कि किसानों ने डीसी परिसर के भीतर ही पक्का मोर्चा लगा लिया है, जो मांगे पूरी होने के बाद ही समाप्त होगा। इस मौके राज कुमार, जसवंत सिंह, सुरिद्र सिंह, सराज सिंह, अवतार सिंह लखविद्र सिंह, वीर सिंह, बलदेव सिंह अन्य मौजूद रहे।

Edited By: Jagran