संवाद सहयोगी, अबोहर : अबोहर की किन्नू मंडी में किन्नू का कम भाव मिलने पर किसानों ने शुक्रवार को मंडी में बोली न करवाकर किसान यूनियन द्वारा मार्केट कमेटी स्थित किसान भवन में व्यापारियों, आढ़तियों व मार्केट कमेटी के अधिकारियों के साथ बैठक की।

इस मौके पर किसान यूनियन राजेवाल के गुणवंत सिंह, जैपाल लक्खोवाल, भूपेंद्र सिंह सिद्धूपुर ने कहा कि इस बार किन्नू की फसल 40 से 45 फीसदी ही है, जिस कारण किन्नू का भाव अच्छा मिलना चाहिए लेकिन मंडी में कम भाव पर किन्नू की खरीद की जा रही है। उन्होंने कहा कि अगर बागवान को उनकी फसल का उचित भाव नहीं मिलता तो यूनियन संघर्ष करने से भी पीछ़े नहीं हटेगी।

गुणवंत सिंह ने कहा कि कहने को तो अबोहर मंडी को एशिया की मंडी कहा जाता है, लेकिन यहां किन्नू की खरीद के लिए दो चार व्यपारी ही आते हैं जिस कारण बागवानों कोपूरा भाव नहीं मिलता, जबकि यहां कम से कम 40 से 50 व्यापारी बुलाए जाने चाहिए ताकि बागवानों को किन्नू का सही दाम मिले। इस मौके पर मंडी सचिव बलजिदर सिंह, व्यपारियों की तरफ से सुरेंद्र चराया, किन्नू मंडी के प्रधान अतिदरपाल सिंह तिन्ना, इंद्र शर्मा, कृष्ण् देवरथ, राजू स्वामी, व्यापारी सोनू मध्य प्रदेश, जाहुल कुरेशी, हंस राज व इकबाल खान के अलावा पंजाब एग्रो से सुभाष चंद्र व किसान यूनियन की तरफ से कालू राम पंजावा, गोल्डी, दर्शन सिह गिद्दडावाली, बलजिदर सिंह बलाक प्रधान, नवदीप सिंह, कमल कड़वासरा, वधवा इत्यादि मौजूद थे।

पंजाब एग्रो जूस फैक्ट्री चलाने की मांग

किसानों ने कहा कि अगर आलमगढ़ स्थित पंजाब एग्रो जूस फैक्टी चालू की जाए तो उसका फायदा किसानों को हो सकता है। क्योंकि जूस फैक्ट्री द्वारा सी व डी ग्रेड का किन्नू खरीदा जाता है व उसका भाव भी अच्छा देते हैं। मार्केट कमेटी के चेयरमैन सुरेंद्र बिश्नोई ने कहा कि वह इस बाबत पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रधान सुनील जाखड़ से मांग करेंगे। उन्होंने भरोसा दिलाया कि जनवरी में जूस फैक्ट्री शुरू हो जाएगी। उन्होंने बताया कि इस समय किन्नू हरा है जिस कारण अभी भाव कम है।

----

मंडी का समय बदला, केर लाने पर रोक

किसान नेताओं ने मंडी खुलने के समय को लेकर भी ऐतराज जताया व कहा कि इस सयम मंडी शाम तीन बजे से खुलती है व बोली होते होते रात हो जाती है, जिस कारण उसके बाद बागवानों के पास फसल को कम भाव बेचने के अलावा कोई रास्ता नहीं बचता लिहाजा मंडी का समय बदला जाना चाहिए। किसानों की मांग पर सभी ने सहमति देते हुए ट्रायल के तौर पर मंडी का समय सुबह 11 बजे से तीन बजे तक करने का निर्णय लिया। बैठक में यह भी निर्णय लिया गया बागवान केर जो फल जमीन पर गिर जाता है, को मंडी में लेकर न नहीं आएगा।

Edited By: Jagran