संवाद सूत्र, फाजिल्का : भारतीय किसान यूनियन एकता उग्राहां व भारतीय किसान यूनियन एकता सिद्धूपुर की ओर से मांगों को लेकर दिया जा रहा धरना डीसी कार्यालय के समक्ष 16वें दिन भी जारी रहा। इस दौरान दोनों ही यूनियनों ने अलग-अलग समय पर केंद्र सरकार के पुतले जलाकर रोष प्रदर्शन किया। इस दौरान डीसी कार्यालय में सुरक्षा के मद्देनजर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात रहा।

इस मौके भाकियू उग्राहां के जिला महासचिव गुरभेज सिंह ने कहा कि केंद्र सरकार ने किसानों के धरने के चलते तीनों कृषि कानूनों को रद तो कर दिए लेकिन उनकी अन्य मांगों जिसमें किसानों पर दर्ज मामले रद करने और एमएसपी पर कानून लाने संबंधी मांग को अभी तक पूरा नहीं किया। उन्होंने कहा कि जल्द ही किसानों की मांगों को पूरा ना किया गया तो संघर्ष फिर से शुरू किया जाएगा। भाकियू सिद्धूपुर के जिलाध्यक्ष प्रगट सिंह ने बताया कि कुछ महीने पहले पंजाब में भारी बारिश के साथ ओलावृष्टि हुई थी जिस कारण फसलों का बहुत बड़े स्तर पर नुकसान हुआ था, जिस पर सरकार ने तुरंत जिला प्रशासन को खराब फसलों के मुआवजे के लिए कार्रवाई करने के आदेश दिए थे और ऐलान किया था कि 17000 रुपए प्रति एकड़ के हिसाब के साथ मुआवजा दिया जाएगा। लेकिन बार बार मांग करने के बावजूद किसानों को अभी तक यह मुआवजा नहीं दिया गया।

Edited By: Jagran