जागरण संवाददाता, अबोहर : जिला फाजिल्का के डिप्टी कमिश्नर मनप्रीत सिंह छत्तवाल ने जिले के सभी मिठाई विक्रेताओं व डेयरी मालिकों को हिदायत दी है कि दूध, पनीर और मिठाइयों की शुद्धता को यकीनी बनाया जाए। उन्होंने कहा है कि सेहत विभाग द्वारा मिलावटखोरी के खिलाफ जांच के दौरान यदि किसी दुकानदार या डेयरी मालिक के सैंपल सही नहीं पाए गए तो ऐसे लोगों के खिलाफ बनती कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। वहीं सिविल सर्जन डॉ. दलेर मेहंदी ने भी मिठाई विक्रेताओं को हिदायत दी है कि रंगदार मिठाइयां बेचने से गुरेज करें क्योकि रंगदार मिठाइयां कैंसर का कारण बन सकती हैं। उन्होंने कहा कि सेहत विभाग की टीमें आने वाले दिनों में दूध, पनीर, खाने पीने की वस्तुओं के अलावा शराब के सैंपल लेकर मिलावट करने वालों पर शिकंजा कसेगी। गौर हो कि दैनिक जागरण ने अपने 9 अक्टूबर के अंक में अंदेशा जताया था कि गत वर्ष की तरह इस वर्ष भी यहां मिलावटखोरी से इंकार नहीं किया सकता और मिठाइयों की जांच को लेकर विभाग अभी खामोश है। इस स्टोरी में बताया था कि पिछले साल यहां डेयरी वालों से बड़ी मात्रा में नकली व घटिया पनीर, मावा, मिल्क केक, दही आदि बरामद कर सैंपल लिए गए थे जो फेल आने पर सारे पदार्थो को कूड़े में फेंकवाया गया था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!