संवाद सहयोगी, फाजिल्का : बेसहारा गोवंश की बढ़ रही संख्या से हादसों की संख्या भी लगातार बढ़ती जा रही है। सोमवार रात्रि श्री मुक्तसर साहिब से दवा लेकर लौट रहे एक व्यक्ति की कार के समक्ष गांव लालोवाली मौड पर कुछ मवेशी सामने आ गए। जिन्हें बचाते हुए कार का संतुलन बिगड़ गया और कार पेड़ से जा टकराई। इस हादसे में कार के पीछे बैठे व्यक्ति की मौत हो गई, जबकि कार का ड्राइवर जख्मी हो गया।

अस्पताल में मौजूद मियाणी बस्ती के हरबंस सिंह ने बताया कि उसके 65 वर्षीय पिता भगवान सिंह सोमवार को श्री मुक्तसर साहिब में अपनी कार से दवाई लेने के लिए गए थे। सोमवार सायं करीब साढ़े सात बजे जब वह फाजिल्का लौट रहे थे तो लालोवाली मौड के समक्ष अचानक उनकी कार के आगे कुछ बेसहारा मवेशी आ गए, जिसके चलते कार चालक गुरदेव सिंह ने काफी बचाने का प्रयास किया, लेकिन कार पशु से टकराने के बाद एक पेड़ से जा टकराई। हादसे में कार बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई। जबकि आसपास के लोगों ने उन्हें उपचार के लिए फाजिल्का के सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया। जहां तीन घंटे बाद उसके पिता भगवान सिंह की मौत हो गई। जबकि उक्त हादसे में चालक गुरदेव सिंह को चौैट आई हैं। उधर हादसे की सूचना मिलते ही परिवार में शोक की लहर दौड़ गई और रात को ही भारी संख्या में लोग अस्पताल में एकत्रित हो गए। पुलिस ने मंगलवार को शव का पोस्टमार्टम करवाने के लिए शव को मोर्चरी में रखवाया। पुलिस द्वारा मृतक के परिवार के बयानों पर कार्रवाई की जा रही है।

अब तक कई हादसे में जान गवां चुके लोग

बेसहारा पशुओं की बात करें तो अब तक कई बेसहारा मवेशी सड़क हादसों में लोगों की जान ले चुके हैं, तो वहीं कईयों को जीवन भर का जख्म दे चुके हैं। 24 अगस्त 2019 को गांव कंधवाला हाजर खां के निकट एक बेसहारा मवेशी मोटरसाइकिल के समक्ष आ गया था, जिसके चलते गांव कंधवाला निवासी राज कुमार की मौत हो गई थी। वहीं 16 दिसंबर 2019 को जलालाबाद की बस्ती भगवानपुरा के निकट भी बेसहारा मवेशियों ने आपस में लड़ते हुए एक व्यक्ति को जख्मी कर दिया था, जिसे उपचार के लिए फरीदकोट भर्ती करवाया गया, लेकिन गांव अमीरखास निवासी कश्मर सिंह की जख्मों के चलते मौत हो गई।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!