संवाद सूत्र, फाजिल्का : कोरोना महामारी की पहल व दूसरी लहर के समय जब जरूरतमंद परिवार परेशानी में थे, तब राधा स्वामी डेरा ब्यास के सत्संग घरों की ओर से पैकिग भोजन को जरूरतमंदों तक पहुंचाया गया। वहीं मौजूदा समय में भी डेरा ब्यास के सत्संग घरों में वैक्सीनेशन मुहिम के तहत लगातार कैंप लगाए जा रहे हैं

सत्संग घर में वैक्सीन संबंधी अपनाई जाने वाली सावधानियों से लेकर वैक्सीन लगवाने वालों को सर्टिफिकेटों का भी पूरा ध्यान रखा जा रहा है, जिससे लोगों को भी कोई परेशानी नहीं हो रही। सबसे पहले डेरा पहुंचने पर सेवादारों द्वारा लोगों को ठंडा जल पिलाया जा रहा है, जिसके बाद उनका आधार कार्ड ले लिया जाता है। फिजिकल डिस्टेंसिग का पालन करने के लिए दूर दूर कुर्सियों पर बैठाकर उन्हें वैक्सीन लगने संबंधी नंबर दिए जा रहे हैं। इसके बाद वहां मौजूद डाक्टर द्वारा पहले वैक्सीन लगवाने वाले व्यक्ति के बीपी और बुखार को लेकर जांच की जाती है। वहीं बाद में उसका आनलाइन रजिस्ट्रेशन किया जाता है, जिसके बाद उसे कोरोना वैक्सीन लगाई जाती है। कोरोना की वैक्सीन लगने के बाद उसे करीब 20 से 25 मिनट वहां बैठाया जाता है, ताकि कोई परेशानी होने पर वहां मौजूद डाक्टरों से चेकअप करवाया जा सके। इसके बाद उन्हें मौके पर ही डोज लगवाने संबंधी सर्टिफिकेट प्रदान कर दिया जाता है। फाजिल्का के गांव आलमशाह रोड पर स्थित डेर सत्संग घर-2 में रविवार को वैक्सीन कैंप लगाया गया। इस दौरान गर्भवती महिलाओं सहित कुल 190 लोगों को वैक्सीन लगाने के साथ साथ सर्टिफिकेट प्रदान किए गए।

Edited By: Jagran