धरमिंदर सिंह, फतेहगढ़ साहिब : लोहा नगरी मंडी गोबिंदगढ़ में छठे पातशाह श्री गुरु हरगोबिद साहिब जी के नाम पर करीब 52 वर्ष पहले बनाया गया सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल (लड़के) अनदेखी का शिकार हो रहा है। स्कूल की हालत दिन प्रतिदिन बदतर होती जा रही है। 12 एकड़ में बना स्कूल का खेल का मैदान संभाल न होने के कारण जंगल का रूप धारण कर रहा है। मैदान में बैठने के लिए बनाई सीढि़यों पर झाड़ियां उग चुकी हैं, जिस कारण वहां बैठना भी संभव नहीं है। सीढि़यां भी टूटी हुई हैं। मैदान के आसपास झाड़ियां होने के कारण सांप निकलते रहते हैं। कुछ समय पहले सांप कक्षा के अंदर आ गया था। स्कूल के अंदर ही कूड़े के ढेर लगे हुए हैं। कई सालों से स्कूल में चली आ रही स्टाफ की कमी को आज तक पूरा नहीं किया जा सका। बार-बार पत्र लिखे जाने और स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या कम होने की चिता को लेकर कुछ स्टाफ भेज दिया गया। राजनीतिक शास्त्र का कोई लेक्चरार न होने के कारण विद्यार्थी इस विषय को लेना सिरदर्दी समझते हैं। स्कूल की चारदीवारी की बात करें तो रिहायशी इलाके की ओर से टूटी दीवार स्कूल की सुरक्षा में सेंधमारी कर रही है। रात के समय स्कूल में नशेड़ी आकर बैठे रहते हैं। पानी न लगाने से सूखे पौधे

स्कूल में कुछ समय पहले एक संस्था की तरफ से पौधे लगाए गए थे। लेकिन बाद में किसी ने इसकी संभाल नहीं की। पौधों को पानी तक नहीं लगाया गया। जिस कारण सभी पौधे सूख गए हैं। स्टाफ की कमी के बारे में लिखकर भेजा हुआ है। फिलहाल एडजस्टमेंट से काम चला रहे हैं। मैदान बड़ा होने के कारण सफाई और संभाल में दिक्कत आ रही है। क्योंकि, स्कूल में दो ही सफाई सेवक हैं। फिर भी समय समय पर सफाई जारी रहती है। स्कूल की दीवार को कुछ शरारती तत्व तोड़ते हैं। इन पर कार्रवाई कराई जाएगी। रही बात मरम्मत की, यह जरूरत मुताबिक जारी रहती है।

सुरिदर कुमार, प्रिंसिपल

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!