मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

अर्शदीप समर, लुधियाना महानगर में लूटपाट व छीनाझपटी पर नकेल कसने के लिए पुलिस ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। लगातार हो रही वारदातों में यही सामने आया है कि जेल से छूटने के बाद ही ये आरोपित फिर से वारदातें कर रहे हैं। पुलिस की तरफ से अब सेंट्रल जेल से जमानत पर छूटने वाले लुटेरों और झपटमारों की लिस्टें तैयार की जा रही हैं। वारदातें करने वाले आरोपित जब जमानत पर बाहर आते हैं तो पुलिस इनको थाने में बुलाकर पूछताछ करती है ताकि पुलिस को पता चल सके कि जेल से बाहर आने के बाद वे क्या काम कर रहे हैं। इसके साथ ही उनकी गतिविधियों पर नजर रखने के लिए थाना स्तर पर खुफिया टीमें भी लगाई जा रही हैं। अगर जेल से छूट कर बाहर आने वाले आरोपित फिर से वारदात को अंजाम दे रहे हैं तो उन्हें तुरंत गिरफ्तार किया जा सके। इस दौरान सभी थाना स्तर पर लिस्टें तैयार की गई हैं और एक स्पेशल टीम इस पर काम करने में जुटी हुई है। एक महीने में 25 झपटमारों को किया गिरफ्तार पुलिस ने पिछले एक महीने में 25 के करीब ऐसे झपटमारों को गिरफ्तार किया है, जो कुछ महीने पहले ही जमानत पर छूट कर आए थे और उसके बाद वारदातों को अंजाम देना शुरू कर दिया। पुलिस ने इन आरोपितों के जमानत पर छूटने के बाद ही खुफिया टीम इनके पीछे लगा दी थी। उनकी गतिविधियों पर पुलिस ने नजर रखी और वारदात होते ही इनको गिरफ्तार कर लिया। इनके कब्जे से झपटा सामान भी बरामद किया है। नशा तस्करों से भी पुलिस ले रही लिस्ट लूटपाट और झपटमारी करने वाले अधिकतर आरोपित नशे की लत का शिकार बने हुए हैं। पुलिस ने पिछले एक महीने में कई नशा तस्करों को गिरफ्तार किया है। इन तस्करों से नशे के साथ-साथ उनसे कौन-कौन लोग नशा खरीदते हैं, उनकी भी लिस्ट तैयार की जा रही है। फिर पुलिस उन लोगों को भी हिरासत में लेकर पूछताछ करेगी। जेल में ही बना रहे झपटमार गैंग पुलिस ने पिछले एक महीने में कई ऐसे लुटेरों व झपटमारों को गिरफ्तार किया है, जो जमानत पर छूटने के बाद वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। गिरफ्तार आरोपितों ने पूछताछ में बताया कि जेल में जाने के बाद उन्हें कई अन्य लुटेरे और झपटमार मिल गए। इसके बाद उन्हें जेल में ही गैंग तैयार कर लिया और जमानत पर छूटने के बाद वारदातों को अंजाम देना शुरू कर दिया। लुटेरों और झपटमारों पर कसी जा रही नकेल : डीसीपी डीसीपी अश्वनी कपूर ने कहा कि लुटेरों और झपटमारों पर नकेल कसने के लिए लगातार कई थ्योरियों पर काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जमानत पर छूटने वाले आरोपितों पर भी पुलिस की तरफ से नजर रखी जाती है ताकि अगर वे जेल से बाहर आकर किसी वारदात को अंजाम देते हैं तो उन्हें तुरंत गिरफ्तार कर लिया जा सके। इसके अलावा भी पुलिस लूटपाट और झपटमारी करने वाले आरोपितों को काबू करने के लिए जमीनी स्तर पर काम कर रही है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!