नेशनल लोक अदालत में समझौतों के लिए रखे गए थे 1419 केस

जासं, फतेहगढ़ साहिब: जिला व सब डिवीजन स्तर की अदालतों में आज लगी राष्ट्रीय लोक अदालत में आज 1419 केस रखे गए थे। उनमें से अदालतों ने 620 केस दोनों पक्षों की सहमति से सुलझा दिए हैं। इसी दौरान 6 करोड़ 49 लाख 69 ह•ार 446 रुपए के अवार्ड भी पास किये गए हैं।

•िाला कानूनी सेवाएं अथारिटी की ओर से राष्ट्रीय कानूनी सेवाएं अथारिटी और पंजाब कानूनी सेवाए अथारिटी के निर्देश पर फतेहगढ़ साहिब की अदालतों और सब डिवि•ान स्तर की अदालतों में बड़े स्तर पर राष्ट्रीय लोग अदालत का आयोजन किया गया।

यह जानकारी •िाला कानूनी सेवाएं अथारटी के चेअरमैन-कम-•िाला और सैशन•ा जज आरएस राय ने •िाला अदालती कंपलैक्स में राष्ट्रीय लोक अदालत का जाय•ा लेने के मौके बातचीत करते दी। उन्होंने बताया कि अधिक से अधिक मामलों का निपटारा करने के लिए जिलास्तर की 8 अदालतों और सब डिविजन स्तर की 3 अदालतों में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया था। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय लोक अदालत में सभी प्रकार के केस जिनमें रा•ाीनामा योग्य ़फौजदारी केस, चेक बाउंस केस, एक्सीडेंट केस सहित दुर्घटना जानकारी रिपोर्ट, वैवाहिक और परिवारिक झगड़ों के केस फैसले के लिए रखे गए थे ।

आरएस राय ने बताया कि राष्ट्रीय लोक अदालत में ज्यादा से ज्यादा मामलों के निपटारे के लिए •िाला और सैशन जज, अतरिक्त सैशन जज रंजीव कुमार विशिष्ट, ची़फ ज्यूडीशयल मजिस्ट्रेट नीतिका वर्मा, एडिशनल सिविल जज डॉ. गगनदीप कौर, सिविल जज जूनियर डिविजन करणवीर ¨सह, सिविल जज जूनियर डिवि•ान वरुणदीप इंद्रजीत कौशिक और अमलोह में सब डिविजनल मजिस्ट्रेट आशीष, सिविल जज जूनियर डिवि•ान कृष्णानूजा मित्तल और खमाणों में सब डिवि•ानल मैजीस्त्रटेट मिस हिमांशी मलहोतरा की अदालत में आयोजन किया गया था।

इस अवसर पर •िाला कानूनी सेवाएं अथारिटी के सेक्रेट्री -कम - ची़फ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट प्रशांत वर्मा ने कहा कि आम लोग समय समय पर लगाई जाती राष्ट्रीय लोक अदालतों में भाग लेकर लाभ उठाना चाहिए क्योंकि लोक अदालतों के साथ जहां आम लोगों और अदालतों के समय की बचत होती है वहीं लोक अदालत का फैसला भी अंतिम होता है ।

Posted By: Jagran